स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां दलितों से कराई जाती है गुलामी, हाथ में जूते-चप्पल लेकर घर से निकलने को मजबूर

Karishma Lalwani

Publish: Jul 15, 2019 18:14 PM | Updated: Jul 16, 2019 18:33 PM

Lalitpur

दलित वर्ग के लोगों ने लगाया ऊच्च जाति के लोगों पर गुलामी कराने का आरोप

ललितपुर. जनपद के एक गांव में जाति भेदभाव का मामला सामने आया है। दलित वर्ग के ग्रामीणों ने गंभीर आरोप लगाए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें सामंत शाही परंपरा की ओर धकेलने का प्रयास किया जा रहा है। उनके बच्चों की शिक्षा को प्रभावित कर उन्हें अपने अधीन बनाने की कोशिश की जा रही है। दलित ग्रामीणों का आरोप है कि आज भी उन्हें हाथों में चप्पल जूते लेकर निकलना पड़ता है। इतना ही नहीं, लेकिन ऊच्च जाति के लोगों को सलाम नमस्ते न करने पर वह लोग उनका अपमान करते हैं।

गुलामी कराने का लगाया आरोप

मामला सदर कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम मऊ माफी मैलबारा का है। ग्रामीणों का आरोप है कि उन्हें गुलाम बनाने का प्रयास किया जा रहा है। जाति विशेष के लोगों द्वारा उनके बच्चों की पढ़ाई को प्रभावित कर उन्हें गुलामी की और धकेलने का प्रयास किया जा रहा है। जब उनके बच्चे स्कूल में पढ़ने के लिए जाते हैं, तो वहां के दबंग आपराधिक लोगों द्वारा उन्हें रास्ते में रोककर स्कूल कालेज जाने से मना किया जाता है और उनकी बात न मानने पर उनके साथ गाली-गलौच और मारपीट तक की जाती है।

सलाम-नमस्ते न करने पर होता है अपमान

यही हाल गांव के अन्य दलित वर्ग के ग्रामीणों का है। अगर गांव के ठाकुर साहब को नमस्कार किए बिना ही निकल गए तो फिर उनकी खैर नहीं। उनके साथ गाली-गलौज जाति कर अपमानित करना और इंक साथ मारपीट भी होती है। ग्रामीणों ने बताया कि आज भी गांव का आलम यह है कि ऐसे लोगों के दरवाजे के सामने से अपने हाथों में जूता चप्पल लेकर निकालना पड़ता है नहीं तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना पड़ता है। ग्रामीणों का आरोप पुष्पेंद्र सिंह रघुनाथ सिंह आदि पर है।

इस मामले में दलित ग्रामीण महिला फूलाबाई बाल किशन रामकिशन सहित कई ग्रामीणों ने इस घटना की पुष्टि की। इसके संबंध में ग्रामीणों ने पुलिस अधीक्षक कैप्टन एमएम बेग को एक ज्ञापन भी दिया। हालांकि पुलिस ने इस मामले में जांच कराकर कार्रवाई की बात कही है।

ये भी पढ़ें: Mob Lynching Incident: आत्मरक्षा के लिए मुस्लिम, दलित करेंगे शस्त्र लाइसेंस के लिए अप्लाई