स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ग्रामीणों ने चंदा लगाकर बनाई गौशाला, चारा-पानी की भी की व्यवस्था

Akansha Singh

Publish: Jul 30, 2019 07:30 AM | Updated: Jul 30, 2019 07:30 AM

Lakhimpur Kheri

प्रशासन की उपेक्षा के चलते किसानों ने ग्रामीणों से चंदा कर गौशाला की गायों के लिए चारा पानी के पूरी व्यवस्था की।

लखीमपुर-खीरी. प्रशासन की उपेक्षा के चलते किसानों ने ग्रामीणों से चंदा कर गौशाला की गायों के लिए चारा पानी के पूरी व्यवस्था की। तहसील मितौली ब्लाक पसगवां की ग्रामसभा जमुनिया रना में ग्रामीणों ने खुद के चंदे से गौशाला बनाई। जिसमें गायों को पालने की पूरी व्यवस्था का प्रबंध किया। कुछ दिन पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री के द्वारा राजस्व विभाग को क्षेत्र में घूम रही आवारा गायों को पकड़कर गौशाला में छोड़े जाने का आदेश किया गया था, लेकिन मुख्यमंत्री का आदेश अधिकारियों पर कोई मायने नहीं रखता है, जिससे क्षेत्र में किसानों को आवारा गायों से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

किसान बड़ी मेहनत से फसल की बुवाई करके फसल तैयार करते हैं तो वह कुछ बड़ी होने पर आवारा घूम रहे जानवर चैपट कर जाते हैं तो किसानों को बहुत दुखी होना पड़ता है। जिस पर प्रदेश की सरकार ने आदेशित किया था कि क्षेत्र में घूम रहे आवारा गायों को गौशाला में पकड़ कर छोड़ दिया जाए। जिससे किसानों को हो रही परेशानियों से छुटकारा मिल सके, लेकिन उनके आदेशों का पालन होता नहीं दिखाई दे रहा है। जिसके चलते पसगवां ब्लॉक के जमुनिया रना के ग्रामीणों ने अपनी एक टीम बनाकर सब लोगों से चंदा इकट्ठा कर एक गौशाला का निर्माण किया। जिसमें लोगों की फसलें बर्बाद कर रही आवारा गायों को पकड़ कर छोड़ा। जिसमें आज के दिन लगभग 100 के करीब गाएं उसमें बंद है जिसमें ग्रामीणों ने गायों के पानी व चारे की पूरी व्यवस्था अपने आप से ही की है। ग्रामीणों के उठाए गए इस कदम से क्षेत्र के अन्य कई ग्राम पंचायतों में खुशी की लहर है कि सरकार के द्वारा ऐसा कदम नहीं उठाया जा सका, तो ग्रामीणों ने खुद के ही लोगों से चंदा इकट्ठा कर गौशाला का निर्माण किया। चंदा इकट्ठा करके बनाई गई गौशाला के बारे में जब पत्रकारों की टीम ने ग्रामीणों से बात की गई तो बताया कि इस गौशाला में हम लोग चारा भूसा इकट्ठा करके इनको यहां खिलाते रहेंगे तो गायों को भी समय से चारा मिलता रहेगा और हम किसान लोगों की फसलें बर्बाद होने से बच जाएंगी।