स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश से खेतों में भर गया पानी

Hemant Kumar Joshi

Publish: Aug 19, 2019 12:27 PM | Updated: Aug 19, 2019 12:27 PM

Kuchaman City

कुचामनसिटी. Water filled the fields due to rain कुचामन सहित आस-पास के क्षेत्रों में गत दो दिनों से हुई बारिश से अब परेशानियां बढ गई है। क्षेत्र के कई खेतों में पानी भरने से किसानों की फसलें चौपट पड़ी है। कुचामन की झील में अच्छे पानी की आवक हो गई है और नमक की क्यारियों में भी मीठा पानी भर गया है।

शहर के मेड़ी के बास के कई खेतों में पानी घूसने से फसले चौपट हो गई। यहां मेड़ी का बास में गंदा पानी एकत्रित हो रहा है। जिसमें शहर का गंदा पानी नालियों से होकर यहां एकत्रित हो रहा है। स्थानीय लोग लम्बे समय से इस गंदे पानी की निकासी करवाने की मांग कर रहे है। कई बार स्थानीय लोगों ने ज्ञापन दिए तो कई बार विरोध प्रदर्शन भी किया, लेकिन नगरपालिका के अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों ने कभी भी इस ओर ध्यान ही नहीं दिया। स्थानीय लोगों ने बताया कि यहां पर हर समय गंदे पानी का भराव रहता है। लेकिन पिछले दो दिनों तक हुई बारिश से गंदा पानी का तालाब लबालब होकर खेतों में घूस गया। जिसके कारण खेतों में अंकुरित फसले चौपट हो गई। स्थानीय लोगों ने खेतों में भरे पानी का निकास करवाकर स्थाई समाधान की मांग की है।
गंदे पानी को रोकने के लिए निकलवाई दीवार, बारिश में ढही
स्थानी किसान कमलकिशोर कुमावत ने बताया कि कई बार नगरपालिका के अधिकारियों को गंदे पानी से निजात दिलवाने के लिए मांग करते रहे। लेकिन अधिकारियों ने सुनवाई नहीं की तो अपने स्वंय के खर्चे से गंदे पानी को रोकने के लिए दीवार निकलवाई, ताकि गंदा पानी खेतों में प्रवेश नहीं हो। किसानों ने बताया कि बारिश में यह दीवार ढहने से खेतों में किसान कमल किशोर कुमावत, रूपाराम कुमावत, रामनारायण कुमावत सहित आसपास के खेतों में गंदा पानी व पानी का पानी का भराव हो गया। खेतों में पांच-पांच फीट तक पानी ही पानी हो गया। खेतों में अंकुरित हो रही फसल पकने से पहले ही खराब हो गई। किसान कमल किशोर ने बताया कि बूंद-बूंद सिंचाई पद्वति से गोभी की फसल की जा रही थी। किसान को आशा थी कि बूंद-बूंद सिंचाई पद्वति से अच्छी फसल होने से अच्छी आमदनी होगी, लेकिन इससे पहले ही सभी अरमान बारिश के पानी के साथ बह गए। खेतों में गंदे पानी के साथ पॉलीथिन व कचरा भी आ गया है।
गंदे पानी का भराव से रहना भी मुश्किल
लोगों ने बताया कि यहां पर गंदे पानी का भराव होने से इस कॉलोनी में रहना भी मुश्किल हो रहा है। हर समय मलेरिया जैसी गंभीर बीमारियां होने का भी भय सता रहा है। नगरपालिका के अधिकारियों को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए। वार्ड के लोगों ने बताया कि गंदे पानी के निकास के लिए समाधान हो जाए तो राहत मिल सकती है।