स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कुचामन की होटलें जिस्मफरोशी का अड्डा

Hemant Kumar Joshi

Publish: Aug 19, 2019 10:59 AM | Updated: Aug 19, 2019 10:59 AM

Kuchaman City

हेमन्त जोशी. कुचामनसिटी.

prostitution in Kuchaman's hotels शहर की होटलें शराब के साथ-साथ जिस्मफरोशी का ठिकाना भी बन गई है। जहां बेरोकटोक देह व्यापार किया जा रहा है। इन होटलों में बिना पहचान के कमरों की बुकिंग हो रही है। जहां युवक-युवतियां बंद कमरों में अवैध रिश्ते बना रहे हैं।

जी हां, शिक्षा नगरी बन रहे कुचामन में बालिग और कई नाबालिग युवक-युवतियां होटलों में जिस्मफरोशी कर रहे है। आए दिन होटलों में चल रहे इस कारोबार की शिकायत पर पत्रिका ने पड़ताल की तो यह सच सामने आया। पुलिस की ओर से ना तो इन होटलों की जांच की जा जाती है और ना ही होटलों में ठहरने वाले लोगों की पड़ताल। ऐसे में शहर की होटलों में खुलेआम अवांछित गतिविधियां संचालित हो रही है।
पत्रिका टीम ने शहर के निकट से गुजर रहे मेगा हाइवे की होटलों पर पहुंच कर पड़ताल की तो यह सच सामने आया। prostitution in Kuchaman's hotels यहां मेगा हाइवे पर दो दर्जन से अधिक होटल, ढाबे और मैरिज गार्डन है। जहां ग्राहकों को आवासीय सुविधा के साथ-साथ अनैतिक गतिविधियों की भी खुली छूट है। इसके लिए बस कुछ राशि अधिक ली जाती है। पत्रिका पड़ताल में यह भी सामने आया कि होटलों में बिना पहचान पत्र के ही कमरों की बुकिंग की जा रही है। अधिकांश होटलों में तो शराब भी सीधे कमरे तक पहुंचाई जा रही है। इसके अलावा कोई भी युवक-युवती बिना किसी पहचान के यहां कमरों में रुक सकते है।
कमरे बुक करवाने वालों में भी अधिकांश युवा- पत्रिका ने जब होटलों की बुकिंग रजिस्टर पर नजर डाली तो यह भी सामने आया कि होटल के बुकिंग रजिस्टर में अधिकांश पहचान पत्र कुचामन और आस-पास के ही युवाओं के है। इन युवक-युवतियों का महज एक से दो घंटे के लिए कमरा किराए पर दिया जाता है जिसकी एवज में एक हजार रुपए वसूले जाते है। होटल संचालक इस काम में जमकर चांदी कूट रहे हैं।

महंगे दामों पर बेच रहे शराब
हाइवे पर स्थित इन होटलों में बिना लाइसेंस ही बार की तर्ज पर शराब परोसी जा रही है। होटल संचालक बेरोकटोक होटल की आड़ शराब की बिक्री भी कर रहे है। आबकारी टीम ने भी कुछ समय पहले होटल संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की थी। लेकिन फौरी कार्रवाई के चलते होटल संचालक अब भी बेखौफ शराब की बिक्री कर रहे हैं। पत्रिका ने सबसे पहले बाईपास रोड पर स्थित एक ढाबे पर जाकर एक बीयर और एक अंगे्रजी शराब का पव्वा मांगा। जिस पर दुकान पर बैठे आदमी ने कहा कि कौनसी चाहिए। यहां तो केवल .... मिलेगी। दूसरा ब्रांड मांगने पर बताया कि यहां केवल यही ब्रांड चलता है। इस पर टीम ने कहा कि कितने रुपए की है तो एक सौ बीस रुपए की बोतल को डेढ सौ रुपए में बताए गए। दूसरा ब्रांड मांगने पर होटल वाले रास्ते की दूसरी होटल का नाम बताया कि वहां मिल जाएगी। टीम ने वहां पहुंच कर शराब मांगी तो वहां सभी ब्रांड की शराब और बीयर भी बेची जा रही थी।

पड़ताल के पीछे का सच

शिक्षानगरी कहलाने वाले कुचामन की साख भले ही इस समाचार के साथ धूमिल हो रही है लेकिन यह सच जनता और प्रशासन के सामने लाना भी जरुरी है। कारण भी स्पष्ट है यहां हजारों की तादाद में शिक्षा ग्रहण करने के लिए आर रहे बालक-बालिकाओं को अनैतिक गतिविधियों में लिप्त होने से बचाना भी जरुरी है। अभिभावक अच्छी शिक्षा और संस्कार के लिए बच्चों को कुचामन भेज रहे हैं, लेकिन यहां होटलों में चल रहा कारोबार कुछ अलग ही कहानी बयां कर रहा है।
पुलिस अनभिज्ञ तो नहीं लेकिन कार्रवाई भी नहीं- कुचामन की होटलों में चल रहे इस कारोबार से पुलिस अनभिज्ञ नहीं है। करीब तीन साल पहले पुलिस ने एक बार शिकायत मिलने पर एक होटल से युवक-युवतियों को दस्तयाब भी किया था। लेकिन इसके बाद पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई और ना ही होटल संचालकों को पाबंद किया गया। ऐसे में होटल संचालक खुलेआम वैश्यावृत्ति करवा रहे हैं।

इनका कहना-
होटलों में यदि शराब की बिक्री और वैश्यावृत्ति हो रही है तो शीघ्र ही टीम गठित कर कार्रवाई करेंगे। हालांकि होटल संचालकों को पूर्व में पाबंद भी किया हुआ है।
रामवीर जाखड़
एसएचओ, कुचामन