स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कुचामनसिटी में अब भी कई विद्यालय 0 नामांकन पर संचालित

Hemant Kumar Joshi

Publish: Aug 06, 2019 19:25 PM | Updated: Aug 06, 2019 19:25 PM

Kuchaman City

रामनिवास कुमावत
कुचामनसिटी.शिक्षकों, संस्था प्रधानों, पीईईओ व शिक्षा विभाग के आलाधिकारियों के पूरा जोर लगाने के बावजूद कुचामन ब्लॉक में सरकारी स्कूलों का नामांकन लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाया है। कुचामन ब्लॉक की 226 प्रारम्भिक स्कूलों में अब भी लक्ष्य को पूरा करने लिए काफी नामांकन करवाने की जरूरत है।

-
- ठाले शिक्षक उठा रहे लाखों की तनख्वाह, कुचामन ब्लॉक के कई स्कूलों में नामांकन 5 से भी कम

प्रथम चरण खत्म होने के बाद द्वितीय चरण भी खत्म हो गया है। वही लक्ष्य पूरा नहीं हुआ तो अब तिथि 15 अगस्त तक बढ़ा दी गई। प्रथम चरण में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय में मात्र 66 विद्यार्थियों का नामांकन हो सका। शिक्षा अधिकारियों को उम्मीद थी कि द्वितीय चरण में अच्छा खासा नामांकन हो जाएगा, लेकिन द्वितीय चरण में भी मात्र 587 विद्यार्थियों का नामांकन हो सका। जबकि नामांकन प्रवेशोत्सव के दौरान मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी बजरंगलाल शर्मा, अतिरिक्त मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी दिनेशसिंह चौधरी व उपासना पारीक स्वंय ने कमान संभाल रखी थी। यहां तक कि इन तीनों ही अधिकारियों ने हर स्कूलों में पहुंचकर नामांकन बढ़ाने को लेकर संस्था प्रधानों को निर्देश भी दिए।
हालांकि इस सम्बध में पंचायत प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारियों का यह भी कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में कुछेक ही दूरी पर सरकारी विद्यालय है। जिसके कारण नामांकन बढ़ाने में काफी परेशानी आ रही है। कई ऐसे गांव भी है जहां विद्यालय तो है, लेकिन वहां पर पर्याप्त आबादी नहीं है। कई जगहों पर बच्चे ही नहीं है। जिसके कारण विद्यालयों में नामांकन नहीं हो सके।

कई स्कूलों में पांच से भी कम विद्यार्थियों का हुआ नामांकन
कुचामन ब्लॉक की ग्राम पंचायत चावण्डिया की अमराना नाडी में स्थित सरकारी विद्यालय में इस बार भी एक भी नामांकन नहीं हुआ है। हालांकि इस विद्यालय में पिछले वर्ष भी ‘जीरो’ नामांकन था। जिसका मुद्दा राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित किया गया। इसके बावजूद आज भी यह विद्यालय कागजों मं संचालित किया जा रहा है। इसी प्रकार चावण्डिया ग्राम पंचायत के कुम्हारों की ढाणी में स्थित विद्यालय में मात्र तीन विद्यार्थियों का नामांकन हुआ है। इसी ग्राम पंचायत की गांगली तलाई में भी मात्र 14 बच्चों का नामांकन हुआ है। इसी प्रकार ग्राम पंचायत प्रेमपुरा के देऊसर की प्राथमिक विद्यालय में पांच, ग्राम नंगवाड़ा की प्राथमिक विद्यालय में पांच, जिलिया में घोटिया की ढाणी की स्कूल में छ:, रसाल के कलवानियां नाडा में स्थित विद्यालय में सात, दीपपुरा के मुवालों की ढाणी व रतनाराम खोखर की ढाणी में स्थित प्राथमिक विद्यालय में सात-सात, जिजोट की पालोतलाई की स्कूल में सात बच्चों का ही नामांकन हुआ है। इसी तरह से अडक़सर ग्राम पंचायत के अलाय नाडा में स्थित स्कूल में नो, घाटवा के हनुमानसिंह की ढाणी में नो, कुकनवाली की कातियों की ढाणी की प्राथमिक विद्यालय में नो, जिलिया के असलानी तलाई की विद्यालय में दस, चितावा की जोलाई तलाई की विद्यालय में दस, हिराणी की नरूका की ढाणी की विद्यालय में दस विद्यार्थियों का नामांकन हुआ है।
इन विद्यालयों में भी हुआ कम नामांकन
ग्राम पंचायत शिव के बरालपुरा, खारिया की नवोड़ी कोठी, दीपपुरा की सुमेरसिंह की ढाणी, नालोट के चारणों की ढाणी, पलाड़ा में कुमावतों की ढाणी, चितावा में बुल्डकों की ढाणी, कुकनवाली की हाथोतलाई ढाणी, लालास के कचोलिया नाडा, जिजोट के कालिया की ढाणी, आनन्दपुरा के लिखमासर, लालास के गुडली नाडा, प्रेमपुरा के माताजी की डूंगरी, खोरण्डी की भीलाल नाडी की विद्यालयों में भी दिए गए लक्ष्य के तहत नामांकन नहीं हुआ है।
36 विद्यालयों के संस्था प्रधानों को दिया कारण बताओं नोटिस
प्रथम व द्वितीय चरण में नामांकन प्रवेशोत्सव के दौरान शिथिलता बरतने वाले संस्था प्रधानों को कारण बताओं नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा गया है। इस सम्बध में मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी बजरंगलाल शर्मा ने 36 स्कूलों के संस्था प्रधानों को कारण बताओं नोटिस दिया गया है। नोटिस में लिखा है कि विद्यालय में 15 विद्यार्थियों से कम व उच्च प्राथमिक विद्यालय में 30 से कम विद्यार्थियों का नामांकन होना शिथिलता बरती गई है। साथ ही नोटिस में बढ़ाई गई तिथि तक लक्ष्य को पूरा करने के भी निर्देश दिए है।
घर-घर पहुंचे और रैलिया निकाली
स्कूलों में नामांकन बढ़ाने के लिए शिक्षकों ने घर-घर सम्पर्क किया। अभिभावकों व बच्चों को सरकारी स्कूलों का परिणाम बताया। लैपटॉप, साइकिल, स्कूटी वितरण, पोषाहार, छात्रवृति आदि योजनाओं की जानकारी दी गई। अभिभावकों को जागरूक करने के लिए शिक्षकों की ओर से रैलियां निकाली गई। विभाग के उच्च अधिकारियों ने भी लक्ष्य तक पहुंचने के लिए मॉनिटरिंग भी की। यहां तक की प्रत्येक स्कूलों में जाकर शिक्षकों को नामांकन बढ़ाने के लिए निर्देश देते नजर आए। इसके बावजूद सरकारी विद्यालयों में नामांकन नहीं बढ़ सका।
--------------------------
इनका कहना है
नामांकन की तिथि बढ़ा दी गई है। कई स्कूलों में अच्छा नामांकन भी हुआ है। जिन स्कूलों में नामांकन कम हुआ उनको निर्देशित किया जा रहा है। 15 अगस्त तक ही नामांकन की स्थिती स्पष्ट हो पाएगी।
बजरंग लाल शर्मा
मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, कुचामन सिटी

प्रत्येक सरकारी स्कूल को नामांकन का लक्ष्य दिया गया था। जो स्कूल लक्ष्य से पिछड़ गई है। उन स्कूलों के संस्था प्रधानों को नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा गया है।
दिनेश सिंह चौधरी
प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी, कुचामन सिटी