स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कर्मचारियों की तनख्वाह ही खा गए कम्पनी के अधिकारी, मुकदमा दर्ज

Hemant Kumar Joshi

Publish: Sep 17, 2019 11:30 AM | Updated: Sep 17, 2019 11:30 AM

Kuchaman City

कुचामनसिटी. Company officials ate salaries, lawsuit filed यहां पुलिस थाने में निजी कंपनी द्वारा कर्मचारियों को वेतन नहीं देने व धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज हुआ है।


पुलिस के अनुसार गणेश सोनी पुत्र चंदनमल सोनी जाति सोनी ने lawsuit filed थाने में रिपोर्ट पेश कर बताया कि आरएसएलडीसी राजस्थान सरकार तथा एनएसडीसी भारत सरकार से पंजीकृत प्रशिक्षण प्रदाता कंपनी के राजस्थान इंचार्ज से साकेत व समन्वयक जितेंद्र कुमार जांगिड़ द्वारा मुझे 2017 में केंद्र प्रबंधक के पद पर 17000 मासिक व अन्य भत्ते में नियुक्ति दी गई थी। जिसने मुझे वेतन नही देकर और सरकारी राशि का गबन किया है। मेरे साथ ही गिरिराज पारीक, ट्रेनर शैलेंद्र शर्मा, ट्रेनर मुकेश गोटिया, ऑफिस असिस्टेंट मनोज कुमावत सहित अन्य कर्मचारियों को पद पर साक्षात्कार के माध्यम से नियुक्त किया था। 18 अगस्त 2017 को आरएसएलडीसी के अधिकारियों द्वारा केंद्र सरकार के कॉमन नॉम्र्स के अनुसार निरीक्षण कर सकारात्मक रूप से वेरीफाई किया गया था। उन्होंने मुझे वह अन्य कार्मिकों को वेतन नहीं दिया। बार-बार कहने पर 18 फरवरी 2018 को मेरे अलावा अन्य कार्मिकों के बैंक खाते में आधी अधूरी तनख्वाह जमा करा दी गई। मैंने जब इसकी शिकायत कंपनी के उच्चाधिकारियों व राज्य सरकार के आरएसएलडीसी विभाग में की तो कंपनी के नेशनल को ऑर्डिनेटर अमरेंद्र कुमार फाइनेंस डायरेक्टर प्रदीप कुमार ने मुझे अन्य कार्मिकों को डराया धमकाया। lawsuit filed शिकायत करने से कंपनी को राज्य सरकार केंद्र सरकार से मिलने वाली राशि का भुगतान नहीं कर पाएंगे आप लोग शिकायतें वापस ले लो हम आपको तनख्वाह व भुगतान कर देंगे। कुछ दिवस में कंपनी ने राज्य व केंद्र सरकार से प्रशिक्षण देने के नाम पर राशि प्राप्त कर भी ली। लेकिन कर्मचारियों का भुगतान नहीं किया। सरकारी राशि का गबन करके हमसे काम करवा कर हमें तनख्वाह नही देकर आर्थिक नुकसान पहुंचाया है। इस पर पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।