स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सालभर 'आराम', अब अपराधियों को पकडऩे का 'काम'

Mukesh Gaur

Publish: Dec 14, 2019 18:09 PM | Updated: Dec 14, 2019 18:09 PM

Kota

वर्ष के अंत में पुलिस उप महानिरीक्षक ने दे दिए टारगेट : गिरफ्तारी व मामलों के निस्तारण के लिए विशेष अभियान किया शुरू

कोटा. वर्ष का अंतिम महिना शुरू होते ही पुलिस के आला अधिकारी ने हाड़ौतीभर के पांचों पुलिस जिलों के अधीक्षकों को विभिन्न मामलों में भगौड़े, हिस्ट्रीशीटर व फरार आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए कमर कसने के आदेश दे दिए। अब वर्षभर में दर्ज हुए प्रकरणों के निस्तारण के लिए पुलिस अधीक्षकों ने अपनी टीमों को योजनाबद्ध तरीके से काम करवाना शुरू कर दिया है। पुलिस उप महानिरीक्षक कोटा रेंज रवि दत्त गौड़ ने फरार वारंटियों, भगौड़ों व अन्य प्रकरणों में अभी तक गिरफ्तार नहीं हुए आरोपियों को गिरफ्तार करने व थानों में दर्ज प्रकरणों की जांच पूरी कर उन्हें निस्तारित करने को कहा है। इसके अलावा वर्ष 2018 व इससे पूर्व में दर्ज मामलों में भी निस्तारण के निर्देश दिए। पुलिस अधीक्षकों को औसतन 95 फीसदी मामलों का निस्तारण करना होगा। नोडल अधिकारी तैनात कर मामलों में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक व वृताधिकारियों को टारगेट देने के आदेश दिए हैं।

read also : 111 साल पहले अंग्रेजोंं ने लगाया ऐसा चस्का कि अब साल में 2.66 अरब की चाय पी जाता है राजस्थान का यह शहर

थानाधिकारियों को मिले टारगेट
जिला पुलिस अधीक्षकों ने भी पुलिस जिलेवार थानाधिकारियों को मामलों के निस्तारण के आदेश जारी कर दिए हैं। कोटा सिटी पुलिस ने थानाधिकारियों को मामलों के निस्तारण के आदेश के साथ ही पुलिस उप अधीक्षक को चिन्हित मामलों की विजिलेंस कर इनके निस्तारण को कहा है। वहीं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक फरार, भगौड़े व हिस्ट्रीशीटरों की गिरफ्तारी के निस्तारण पर नजर रखें हुए हैं।

मामला दर्ज करने से हिचक रही पुलिस
वर्षभर में दर्ज मामलों के निस्तारण में थानाधिकारियों से लेकर एएसआई तक जुट गए हंै। ऐसे में पुलिस मामले दर्ज करने से हिचक रही है। इसके चलते थानों की चौखट पर पहुंचने वाले फरियादी बेरंग लौटना पड़ रहा है।

read also : उद्योगपति घराने की ये शादी बनी अनूठी,बैलगाड़ियों में सवार होकर दुल्हन लेने पहुँचे दूल्हे राजा ,ऐसा अंदाज देख लोग भी रह गए दंग

एक साइन से मामले में एफआर
पुलिस के जांच अधिकारी इन दिनों दर्ज मामलों के फरियादियों से संपर्क कर प्रकरणों में एफआर लगाने व चालान करने में जुटे हैं। खासकर चोरी व लूट के मामलों में फरियादियों से संपर्क कर पुलिस उनके हस्ताक्षर करवा रही है। कई फरियादियों को तो ये भी नहीं पता कि उनके हस्ताक्षर से पुलिस ने उनके मामले में एफआर लगा दी है।

हाड़ौती भर की पुलिस को वर्षभर में दर्ज प्रकरणों के निस्तारण, भगौड़ों, फरार आरोपियों व मामले में वांछित आरोपियों की गिरफ्तारी, पेडिंग मामलों के निस्तारण के निर्देश दिए गए हैं। आला पुलिस अधिकारियों को चिन्हित बड़े मामलों के निस्तारण के भी निर्देश दिए हैं।
रवि दत्त गौड़, उप महानिरीक्षक

[MORE_ADVERTISE1]