स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डब्ल्यूबी जेईई-2020: ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि कल

Suraksha Rajora

Publish: Nov 12, 2019 19:11 PM | Updated: Nov 12, 2019 19:11 PM

Kota

विद्यार्थी 27 जनवरी से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे।

कोटा. आगामी 2 फरवरी-2020 को आयोजित की जाने वाली "वेस्ट बंगाल ज्वाइंट एंटरेंस एग्जामिनेशन" अर्थात "डब्ल्यूबी-जेईई" के ऑनलाइन आवेदन की 13 नवंबर अंतिम तिथि है। ऑनलाइन फॉर्म में त्रुटि सुधार 14 से 16 नवंबर का समय दिया गया है। विद्यार्थी 27 जनवरी से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे।

इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में "जेईई मैंस" के अतिरिक्त "डब्ल्यूबीजेईई" भी एक विकल्प के रूप में उपलब्ध है। पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार एवं पश्चिमी बंगाल के लाखों विद्यार्थीयों के मध्य "डब्ल्यूबी-जेईई" एक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा है तथा यह सभी विद्यार्थी उपरोक्त प्रवेश परीक्षा में भाग लेते हैं। कैरियर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट देव शर्मा ने बताया कि "डब्ल्यूबी-जेईई" का आयोजन आगामी 2 फरवरी को 2 शिफ्टों में किया जाएगा।

देव शर्मा ने विद्यार्थियों को आगाह किया की "डब्ल्यूबीजेईई" के ऑनलाइन आवेदन से पूर्व यह जानना अत्यंत आवश्यक है कि पश्चिमी बंगाल राज्य के गवर्नमेंट तथा गवर्नमेंट-ऐडेड संस्थानों में प्रवेश के लिए पश्चिमी बंगाल का मूल निवासी होना अनिवार्य है। अर्थात यदि विद्यार्थी के पास पश्चिमी बंगाल का मूल निवासी प्रमाण पत्र उपलब्ध नहीं है तो उसे गवर्नमेंट तथा गवर्नमेंट-ऐडेड इंजीनियरिंग एवं फार्मेसी संस्थानों में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

कई विद्यार्थी उपरोक्त जानकारी से अनभिज्ञ होने के कारण ऑनलाइन आवेदन कर देते हैं, सफल भी हो जाते हैं किंतु उम्मीद के साथ जब काउंसलिंग के लिए जाते हैं तो उन्हें गवर्नमेंट एवं गवर्नमेंट-एडेड इंजीनियरिंग एवं फार्मेसी संस्थानों में प्रवेश से वंचित कर दिया जाता है फलस्वरूप कई विद्यार्थियों को निराशा हाथ लगती है। अतः ऐसे विद्यार्थी जो सिर्फ और सिर्फ गवर्नमेंट तथा गवर्नमेंट-एडेड संस्थानों में प्रवेश लेना चाहते हैं और वे पश्चिमी बंगाल का मूल निवासी नहीं है तो निश्चित तौर पर ऑनलाइन आवेदन करने से पूर्व विचार कर लें।

परीक्षा प्रश्न पत्र अंग्रेजी एवं बांग्ला भाषा में...

"डब्ल्यूबीजेईई" प्रवेश परीक्षा के प्रश्न पत्र अंग्रेजी एवं बांग्ला दोनों माध्यमों में उपलब्ध होंगे। *भाषा के प्रति लगाव के लिए पश्चिमी बंगाल से निश्चित तौर पर काफी कुछ सीखा जा सकता है।* इंजीनियरिंग तथा फार्मेसी जैसे तकनीकी विषयों हेतु आयोजित की जाने वाली प्रवेश परीक्षाओं के प्रश्न पत्रों को भी स्थानीय भाषा में उपलब्ध करा देना निश्चित तौर पर स्वागत-योग्य है।

परीक्षा प्रश्न पत्र स्थानीय भाषा में उपलब्ध होने के कारण ग्रामीण परिवेश के प्रतिभावान विद्यार्थियों को काफी लाभ होता है। स्थानीय भाषा की सुलभता के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में भी तकनीकी शिक्षा का प्रचार-प्रसार बड़ी तीव्रता से होता है। तकनीकी शिक्षा का यह प्रचार-प्रसार आधुनिक भारत के निर्माण के लिए अति आवश्यक है।

"मेक इन इंडिया" के स्वप्न को साकार करने में भी निश्चित तौर पर यह काफी सहायक होगा। पश्चिमी बंगाल से सबक लेते हुए राजस्थान राज्य को "राजस्थानी भाषा" के विकास हेतु इस दिशा में कदम उठाने की आवश्यकता है।

सफलता के लिए गणित विषय को विशेष महत्व देना होगा

"डब्ल्यूबी-जेईई" राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित की जाने वाली जेईई-मेंस परीक्षा से काफी भिन्न है। अतः सफलता के लिए इसकी तैयारी भी भिन्न प्रकार से की जानी आवश्यक है। देव शर्मा ने बताया कि डब्लूबी-जेईई प्रवेश परीक्षा में एक ही दिन में दो प्रश्न पत्र आयोजित किए जाते हैं। प्रथम प्रश्न पत्र गणित विषय का तथा द्वितीय प्रश्न पत्र फिजिक्स-केमिस्ट्री का होता है।

गणित के प्रथम प्रश्न पत्र में अधिकतम अंक 100 है। जबकि द्वितीय प्रश्न पत्र में फिजिक्स एवं केमिस्ट्री दोनों विषयों को मिलाकर कुल अधिकतम अंक 100 हैं। देव शर्मा ने बताया कि गणित के प्रश्न पत्र का वेटेज अधिक होने के कारण सफलता प्राप्ति हेतु विद्यार्थियों को सापेक्ष तौर पर गणित विषय पर अधिक ध्यान देना होगा।

प्रथम एवं द्वितीय प्रश्न पत्र दोनों की समयावधि 120-120 मिनट है।
आगामी 2 फरवरी-2020 को प्रथम प्रश्न पत्र का आयोजन प्रात: 11:00 बजे से 1:00 बजे तक तथा द्वितीय प्रश्न पत्र का आयोजन दोपहर 2:00 से 4:00 बजे तक किया जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]