स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कोटा में पानी के लिए कोहराम, टैंकर भी दे सकते हैं धोखा

Shailendra Tiwari

Publish: Sep 21, 2019 01:43 AM | Updated: Sep 21, 2019 01:43 AM

Kota

जलदाय विभाग के पास पर्याप्त टैंकर उपलब्ध नहीं हैं। इसके चलते जलापूर्ति सुधरने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं।

कोटा. जलदाय विभाग शहर के विभिन्न इलाकों में जलापूर्ति के लिए टैंकर पहुंचाने के दावे कर रहा है, लेकिन इसके विपरीत हकीकत यह है कि सप्ताह भर से जल संकट से जूझ रहे शहर के कई इलाकों में अब भी टैंकर नहीं पहुंत रहे हैं। इसे लोगों की परेशानी कम नहीं हो रही है। लोगों को पानी के लिए मोहताज होना पड़ रहा है। सूत्रों के मुताबिक जलदाय विभाग के पास पर्याप्त टैंकर उपलब्ध नहीं हैं। इसके चलते जलापूर्ति सुधरने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। जिला प्रशासन ने प्राइवेट टैंकरों पर निगरानी रखने के निर्देश दिए हैं।

ये हो गए हालात

खेड़लीफाटक क्षेत्र में सरस्वती कॉलोनी निवासी प्रेम विजयवर्गीय सहित कई लोगों ने बताया कि क्षेत्र में लगातार पानी की समस्या बढ़ती जा रही है। पहले तो चंबल में बाढ़ आने के कारण पानी नहीं आया, लेकिन पानी रुकने के तीन दिन बाद भी लोगों को पानी नहीं मिल रहा। विजयवर्गीय ने बताया कि उन्होंने व 3 परिवारों ने मिलकर 1500 रुपए में टैंकर मंगवाया तब जाकर काम चला। लेकिन अब यह भी खत्म हो गया है। क्षेत्र में जलदाय विभाग की ओर से कोई टैंकर नहीं आया। सकतपुरा में दुर्गा नगर, सुभाष नगर व अन्य कॉलोनी का भी यही हाल है। क्षेत्र में गुरुवार को टैंकर नजर आए थे, जबकि शुक्रवार को एक भी टैंकर नजर नहीं आया। लोगों के अनुसार टैंकर वाले भी ज्यादा राशि वसूल रहे हैं। नंदाजी की बाड़ी, हनुमान गढ़ी, समेत अन्य इलाकों में भी पानी की किल्लत है। कांग्रेस नेता राजीव आचार्य ने बताया कि क्षेत्र में जलापूर्ति के प्रबंध करने की मांग की है।

निगम चुनाव..जिला अध्यक्ष त्यागी बोले, कांग्रेस का टिकट
चाहिए तो करना होगा ये काम

केईडीएल बना मददगार

शहर में विद्युत आपूॢत करने वाली केईडीएल सामाजिक सरोकार के तहत लोगों की प्यास बुझाने में भी मददगार बन रही है। कम्पनी कई दिनों से पेयजल संकट से जूझ रहे आधे शहर में टैंकरों से नियमित जलापूर्ति कर रहा है।कम्पनी ने शुक्रवार को नदीपार क्षेत्र में चंबल कॉलोनी, पंचवटीनगर, विकास नगर, बालिता रोड, बापू बस्ती, नयापुरा, खाई रोड, सिविल लाइन, बोरखेड़ा, खेड़ली फाटक सहित जलसंकट से जूझ रहे संपूर्ण क्षेत्र में टैंकरों से जलापूर्ति की गई।