स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस बार हाथ हिलाकर दर्शकों का अभिवादन करेगा रावण

Mukesh Gaur

Publish: Sep 11, 2019 18:01 PM | Updated: Sep 11, 2019 18:01 PM

Kota

मेला दशहरा 2019 : दिल्ली की अबरी से लाएंगे पुतलों की वेशभूषा में चमक, दिल्ली एनसीआर के कलाकार बना रहे हैं रावण परिवार के पुतले

कोटा . 126वें राष्ट्रीय दशहरा मेले में मायावी दशानन की ऊंचाई इस बार एक फीट बढ़ाई जाएगी। पिछले वर्ष रावण की ऊंचाई 100 फीट रखी गई थी। इस बार 101 फीट का रावण होगा। रावण परिवार के पुतलों का निर्माण दिल्ली एनसीआर निवासी अनीस अली की टीम कर रही है। पिछले कई वर्षों से फतेहपुर सिकरी के नईम अहमद का परिवार कोटा में रावण के पुतलों का निर्माण करता आ रहा था। इस बार रावण की आंखें , मुंह, हाथ व गर्दन मूवमेंट करते रहेंगे। इस बार रावण का पुतला हाथ हिलाकर दर्शकों का अभिवादन भी करेगा। पुतलों में आतिशबाजी लगाने के बारे में उन्होंने बताया कि आतिशबाजी का ठेका अन्य किसी को मिला है। वहीं ठेकेदार इसमें आतिशबाजी फिट करेगा।


300 बांसों से होगा पुतलों का निर्माण
पुतलों का निर्माण कर रहे अनीस अली ने बताया कि रावण की ऊंचाई 101 व कुम्भकरण, मेघनाथ के पुतलों की ऊंचाई 55-55 फीट रहेगी। उन्होंने बताया कि पुतलों को बनाने में 300 बांस 24 फीट लम्बे, पौने दो क्विंटल रस्सियां, तीन क्विंटल रद्दी, ढाई क्विंटल चमकीला कलर पेपर (अबरी) व दो बोरी मैदा की लई लगेगी। अली ने बताया कि पुतलों पर लगाया जाने वाला चमकीला पेपर पहले कोटा से ही लगाया जाता था। पुतलों में चमक लाने के लिए इस बार पेपर दिल्ली से मंगाया जा रहा है। 15 सदस्यीय टीम 3 सितम्बर से निर्माण में जुट गई है।


दुकानों के आवंटन की तिथि बढ़ाई
राष्ट्रीय दशहरा मेले में दुकानों के आवंटन की तिथि बढ़ाकर 16 सितम्बर कर दी गई है। मेला समिति के अध्यक्ष राम मोहन मित्रा ने बताया कि इस संबंध में मेला अधिकारी कीर्ति राठौड़ से वार्ता हो चुकी है। पुराने दुकानदार अब 16 सितम्बर तक दुकानों के लिए आवेदन कर सकेंगे। मित्रा ने बताया कि पिछले साल जिन व्यापारियों को नीलामी से दुकानें आवंटित की गई थी, उन्हें इस साल भी निश्चित राशि बढ़ाकर आवंटन किया जाना चाहिए। इस बारे में भी मेला अधिकारी से चर्चा हुई है। इस संबंध में अंतिम निर्णय एक-दो दिन में होगा।


रामलीला मंचन में स्थानीय कलाकारों को मौका दिया जाए
राष्ट्रीय दशहरा मेले में रामलीला मंचन के लिए स्थानीय मण्डल को अवसर देने की मांग उठी है। इस संबंध में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से भेंटकर स्थानीय मण्डल के प्रतिनिधियों ने अपनी बात रखी है। इससे पहले महापौर से भी इस संबंध में आग्रह कर चुके हैं। रामलीला के लिए कोटा और मथुरा की मण्डली ने आवेदन किया है। स्थानीय मण्डल के प्रतिनिधि वैभव गौतम ने बताया कि स्थानीय कलाकारों को मौका देने से उत्साह बढ़ेगा और अब तक 11 बार श्रीराम रंगमंच पर रामलीला का मंचन किया जा चुका है।