स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कोटा की एक कॉलोनी ऐसी, जिसमें बिना बारिश टपक रहीं छतें

Deepak Sharma

Publish: Dec 13, 2019 23:44 PM | Updated: Dec 13, 2019 23:44 PM

Kota

चन्द्रशेखर आवासीय योजना के वाशिंदों ने बताई परेशानियां

कोटा. बरसात में घर टपकना तो आम बात है, लेकिन सर्दी-गर्मी में भी मकानों की छत से पानी टपके तो क्या कहेंगे। ऐसा ही हाल हो रहा है डीसीएम रोड स्थित चन्द्रशेखर आवासीय योजना का। यहां सर्दी के इस मौसम में मकान की छत से पानी टपक रहा है। कॉलोनी में जून-जुलाई से ही लोग रहने लगे हैं। अभी से ही इनमें निर्माण की खामियां सामने आने लगी है।

कॉलानी निवासियों ने बताया कि इन मकानों में रहने के बाद ही हकीकत पता चली। कॉलोनी के एक ब्लॉक में किराए से रहने वाले बुजुर्ग ने बताया कि वह दो माह में ही परेशान हो गए हैं। उनके घर की छत टपकती है। वह जहां रहते हैं, वहां उपरी मंजिल से पानी रिस कर वॉशरूम में टपकता है। वह बताते हैं कि अभी यह हाल है तो बरसात में क्या होगा। घर मेंं पानी टपकने के चलते टीवी बंद करके रखा है।

मकानों की जोड़ में लगा दी प्लेट
मकानों की दीवारों के बीच गेप है, इससे बरसात में पानी रिसता है। इसकी शिकायत के बाद कुछ जगहों पर दीवारों के बीच गेप में प्लेट लगाकर गेप भर दिया। लोगों ने बताया कि यह भविष्य में फिर परेशानी खड़ी करेगा। बरसात में घरों में पानी आया तो दीवारें कमजोर हो जाएंगी।

बहता रहता है पानी
लोगों ने बताया कि कई मकानों में जहां अभी लोग रहने नहीं आए हैं, उन पर लगी पानी की टंकियों में लगी बॉलें टूट गई है। इससे टंकियां भरते ही पानी छतों पर बहता रहता है।

छतों पर नहीं दरवाजे
मकानों की छतें एक दूसरे से अटैच हैं। इन छतों पर हर फ्लेट पर दरवाजे तो हैं, लेकिन इनमें फाटक लगाकर नहीं दिए गए हैं, इससे कोई भी छत से मकानों में घुस सकता है। 24 घंटे दरवाजा लगाकर रखना पड़ता है।

हमारे पास जो शिकायतें सामने आ रही हैं, उन्हें दूर करवाया जा रहा है। नलों के वॉल्व व टोटियां खोलने का जहां तक सवाल है, यह लोग भी इसका ध्यान रखें। भविष्य में आवश्यकता हुई तो देखरेख के लिए सोसायटी बनाई जाएगी।
राजेन्द्र राठौड़, अधिशासी अभियंता, नगर विकास न्यास

[MORE_ADVERTISE1]