स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सरकार की नजर हटते ही कोटा की राख पर 7 ठेकेदारों ने किया अवैध कब्जा, चोर दरवाजे से हो रहा खेल

Zuber Khan

Publish: Dec 05, 2019 10:46 AM | Updated: Dec 05, 2019 10:46 AM

Kota

kota thermal power plant, Fly ash: सरकार की नजर हटते ही कोटा थर्मल से निकलने वाली राख पर अवैध कारोबारियों का कब्जा हो गया।

कोटा. सरकार की नजर हटते ही कोटा थर्मल ( Kota Thermal Power Plant ) से निकलने वाली राख पर अवैध कारोबारियों का कब्जा हो गया। ( Fly ash ) राख का यह अवैध धंधा लोगों की नजर से छिपा रहे इसलिए मुख्य रास्ता छोड़ डाइक के पीछे से चोर रास्ता निकाल लिया। यहां अवैध श्रमिकों की फौज और ठेकेदार डाइक पर तैनात कर दिए हैं। जो अब मुफ्त में बंटने वाली राख को 600 रुपए ट्राली के हिसाब से धड़ल्ले से बेच रहे हैं।

Read More: हत्या या आत्महत्या: मां और दादी के साथ टीवी देख रही बेटी आधी रात हुई गायब, 2 दिन बाद कुएं में मिली लाश

एश डाइक पर मन्नू, मंगू, पिंटू और सोनी नाम के छह सात ठेकेदारों ने अवैध कब्जा कर रखा है। यह लोग फ्लाईएश लेने के लिए डाइक में घुसने वाले हर एक ट्रैक्टर-ट्राली से 100 रुपए वसूलते हैं। इसके बाद इन्हीं लोगों ने करीब डेढ़ सौ लोगों की लेबर भी यहां लगा रखी है। जो ट्रैक्टर-ट्रॉली डाइक पर फ्लाईएश लेने आते हैं उन्हें इन्हीं लेबर से ट्राली भरवानी पड़ती है। जिसके एवज में 500 रुपए प्रति ट्राली वसूले जाते हैं। रोजाना औसतन 150 से 200 ट्रॉली फ्लाईएश की अवैध खरीद फरोख्त हो रही है।

Read More: राजस्थान में दो जिलों के बीच चंबल नदी के टापू पर मिला नरकंकाल, छोटे भाई का कंकाल देख रो पड़ा भाई

खाली नहीं हो सका डाइक
केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने 25 जनवरी 2016 को राजपत्रित अधिसूचना जारी कर कोयला और लिग्नाइट आधारित तापीय विद्युत संयत्रों को आदेश जारी किया था कि एश डाइक में स्टॉक करके रखी गई फ्लाईएश को 31 दिसंबर 2017 तक बीबीटी इंडस्ट्रीज को बांटकर हर हाल में डाइक खाली कर लिए जाएं, लेकिन कोटा थर्मल दो साल में भी नियमानुसार राख का वितरण नहीं कर सका। नतीजन, डाइक खाली होना तो दूर, उल्टा लबालब भर चुका है और अवैध राख कारोबारी फ्लाईएश बेचकर अपनी जेबें भरने में जुटे हैं।

चोर दरवाजे से खेल
फ्लाईएश के गोरखधंधे पर किसी की नजर न पड़ जाए इसलिए एश डाइक के मुख्य रास्ते को बंद कर डाइक के पीछे बबूल की झाडिय़ों के बीच छोटा सा चोर रास्ता बनाया गया है। यह रास्ता इतना चौड़ा है कि इससे सिर्फ ट्रैक्टर ट्राॉलयां ही आ जा सकती हैं। ट्रैक्टर आसानी से अंदर आ सकें इसके लिए फ्लाईएश डालकर रास्ता तैयार किया गया है।

Read More: हैदराबाद में डॉक्टर का सामूहिक दुष्कर्म कर जिंदा जलाने वाले हैवानों को मिले फांसी, कोटा में सड़कों पर उतरी छात्राएं

थर्मल प्रशासन ने एश डाइक पर किसी भी तरह की लेबर और ठेकेदार तैनात नहीं किए हैं। हमने सिर्फ बीबीटी उद्योगों और परंपरागत कुम्हारों को उनके क्षमतानुसार राख का मुफ्त उठान करने की अनुमति दी है। इसके लिए उन्हें अपने साथ ही लेबर लेकर आनी होती है, लेकिन यदि कोई राख के लदान और उठान के लिए डाइक पर पैसे वसूल रहा है गलत है। जांच कर कार्रवाई करेंगे।
अजय सक्सेना, मुख्य अभियंता, कोटा थर्मल

[MORE_ADVERTISE1]