स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गुंजी किलकारी, हड़ताल का बंधन और वेतन की सलाखें भी नहीं रोक पाई मानवता को, धरना दे बैठी श्रमिक के सहयोग से प्रसूता ने दिया बालक को जन्म

Suraksha Rajora

Publish: Sep 11, 2019 19:37 PM | Updated: Sep 11, 2019 19:37 PM

Kota

अस्पताल के गेट पर धरना दे बैठी श्रमिक के सहयोग से प्रसूता ने दिया बालक को जन्म

20 मिनट तक महिला अस्पताल के बाहर तड़पती रही महिला, धरने पर बैठी श्रमिक ने सुरक्षित प्रसव कराया-जज्जा-बच्चा सुरक्षित