स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सर्द रातों में ठिठुरते खानाबदोश

Anil Sharma

Publish: Dec 11, 2019 12:40 PM | Updated: Dec 11, 2019 12:40 PM

Kota

जानकारी का अभाव, सुविधाएं भी नहीं उपयोगलायक....

रावतभाटा. दिसम्बर की रातों में सर्द हवाओं का दौर शुरू हो गया। क्षेत्र में बढ़ती सर्दी के साथ लगातार तापमान में गिरावट आने लगी है। ऐसे में देर रात बसों से रावतभाटा पहुंचने वाले व अन्यत्र यात्रा करने वाले राहगीरों को सर्द रातों में शरण देने वाला रैन बसेरा नाकाफी साबित हो रहा है। पालिका की ओर से गत 1 जनवरी से रैन बसेरा का संचालन शुरू कर दिया गया। साथ ही दो कर्मचारी भी नियुक्त किए गए। जो दोपहर 2 से रात 10 बजे व रात 10 से सुबह 6 बजे आगंतुकों को ठहरने की व्यवस्था करवा रहे हैं, लेकिन रैन बसेरे के संचालन की सूचना के अभाव में लोगों का आना शुरू नहीं हुआ। इस वजह से गत दस दिनों में चार लोगों का ही रैन बसेरे पर ठहराव हुआ।

असुविधा में बिता रहे सर्द रात

हाट चौक स्थल परिसर में दूसरी मंजिल पर स्थित रैन बसरे तक जाने के लिए बस बुकिंग खिड़की के पास एक छोटे गलियारे से होकर जाना पड़ता है। इस वजह से वाहनों का इंतजार कर रहे प्रतिक्षार्थियों की नजर रैन बसेरे पर आसानी से नहीं पड़ती। सोने के लिए पलंग नहीं होने के कारण जमीन पर बिस्तर बिछाने पड़ते हैं। लम्बे समय से सुविधा घर भी गंदगी से अटा पड़ा है। ऐसे में रात्रि में ठहरने वाले लोगों को ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है।

खुले आसमान में बिता रहे सर्द राते

सर्द मौसम में तापमान में लगातार गिरावट होने के साथ रात में सर्द हवाओं का दौर शुरू हो गया है। मौसम विभाग की वैद्यशाला के अनुसार तीन दिसम्बर को मौसम की सबसे सर्द रात रही। जिसमें न्यूनतम तापमान 8 डिग्री दर्ज किया गया। मंगलवार को अधिकतम तापमान 26.6 डीग्री तथा न्यूनतम तापमान 9.5 डिग्री रहा। ऐसे में कोटा रोड, नीचे बाजार, कोटा बैरियर चौराहा आदि इलाकों में असहाय लोग सर्द रातों में खुले आसमान के नीचे सड़क किनारे कम्बल लपेट कर सोने को मजबूर है। सड़क किनारे सोने के कारण जानने पर उन्होंने बताया कि रैन बसेरे के संचालन और वहां ठहरने की प्रक्रिया के बारे में जानकारी नहीं है। ऐसे में नगरपालिका की ओर से सर्वे करवाकर जरूरतमंद लोगों को रैन बसेरे में ठहरा दिया जाए तो उन्हें राहत मिलेगी।


[MORE_ADVERTISE1]