स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंडी प्रशासन की नाक के नीचे हो रहा अवैध निर्माण, अनुमति नहीं मिली फिर भी तान दी दुकानें

Suraksha Rajora

Publish: Nov 12, 2019 19:43 PM | Updated: Nov 12, 2019 19:43 PM

Kota

अवैध निर्माण पर मंडी प्रशासन का दोहरा रवैया

कोटा. थोक फल-सब्जीमंडी प्रशासन की शह पर मंडी क्षेत्र में दुकानों का बिना अनुमति के अवैध निर्माण हो रहा है। हैरानी की बात यह है कि अवैध निर्माण मंडी प्रशासन की नाक के नीचे हो रहा है। किसी ने भी अवैध निर्माण रोकने की जहमत नहीं उठाई है। इस कारण मंडी प्रशासन की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

अवैध दुकानों के निर्माण को लेकर मंडी सचिव और मंडी समिति अध्यक्ष आमने-सामने हो गए। इसके लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। अवैध निर्माण की शिकायत पर भी मंडी प्रशासन दोहरी चाल चल रहा है। एक व्यापारी का निर्माण कार्य बंद करवा दिया, जबकि दूसरे व्यापारी को अवैध निर्माण की खुली छूट दे दी।


नई धानमंडी स्थित दुकानें मंडी प्रशासन की नाक के नीचे बिना अनुमति के खड़ी हो गई, जबकि यह दुकानें मंडी गेट के सामने ही हैं। मंडी सचिव से लेकर तमाम कर्मचारी व अधिकारी दुकानों के सामने से रोजाना निकलते हैं। इन दुकानों का मंडी प्रशासन से ले-आउट प्लान भी स्वीकृत नहीं करवाया गया। हाल ही दुकानें शुरू भी कर दी गई।

वहीं मंडी प्रशासन ने इन दुकानों से सटी एक दुकान के ऊपर का निर्माण कार्य बंद करवा दिया और पुलिस से पाबंद भी करवा दिया। दोहरी कार्रवाई से प्रशासन की भूमि भी संदेह के घेरे में है।गुमराह कर रहे हैं, एसीबी में शिकायत दर्ज करवाएंगेे
मंडी समिति बोर्ड के सदस्य अशोक अग्रवाल ने कहा कि बोर्ड बैठक में मंडी की दुकान का नक्शा पास नहीं किया गया है।

बिना अनुमति के निर्माण का मामला बोर्ड में भी उठाया था, लेकिन अध्यक्ष व सचिव के इशारे पर बोर्ड बैठक की प्रोसेडिंग भी बदल दी जाती है। बिना अनुमति दुकानें बनाने व कार्रवाई नहीं होने की शिकायत एबीसी में दर्ज करवाएंगे। सरकार को भी शिकायत की गई है। बोर्ड बैठक में दुकानों की अनुमति के लिए प्रस्ताव मुख्यालय भेजने का प्रस्ताव लिया गया था, अभी तक मंजूरी नहीं आई है। बिना अनुमति निर्माण रोकने का काम मंडी सचिव का है। निर्माण क्यों नहीं रोका, वही बता सकते हैं।
ओम मालव, अध्यक्ष
थोक फल-सब्जी मंडी समिति बोर्ड
& दुकानों का निर्माण मेरे यहां पर ज्वॉइन करने से पहले ही हो गया था। मंडी में हो रहे इस अवैध निर्माण पर आरोप।पत्र तैयार कर जल्द से जल्द कार्रवाई की जाएगी। आवंटन निरस्त का प्रस्ताव भी बोर्ड में रखा जाएगा।
एमएल जाटव
सचिव थोक फल-सब्जी मंडी समिति

[MORE_ADVERTISE1]