स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झूलों के किरायों की मनमानी वसूली पर ताला ,बच्चो के मनोरजन पर लगा ब्रेक

Suraksha Rajora

Publish: Nov 11, 2019 20:58 PM | Updated: Nov 11, 2019 20:58 PM

Kota

ज्यादा वसूली पर चम्बल गार्डन के एम्यूजमेंट जोन के झूलों पर लगाया ताला

कोटा. चम्बल गार्डन में प्रकाश एम्यूजमेंट की ओर से संचालित झूलों की निर्धारित टिकट से अधिक वसूली के मामले में सोमवार को निगम प्रशासन ने एम्यूजमेंट जोन को सीज कर दिया है। झूलों को आगामी आदेश तक तत्काल बंद करवा दिया है।
राजस्थान पत्रिका ने शनिवार के अंक में बिना अनुमति के झूलों के टिकटों की 5 से 30 रुपए की दर बढ़ाने का मामला प्रमुखता से प्रकाशित किया था।

इस पर राजस्व समिति के अध्यक्ष महेश गौतम लल्ली ने विरोध भी जताया था। लेकिन अवकाश आने के कारण कार्रवाई नहीं हो पाई थी। सोमवार को राजस्व समिति के अध्यक्ष महेश गौतम लल्ली, सदस्य देवेन्द्र चौधरी, दिलीप पाठक, मीना प्रजापति, जगदीश मोहिल, दीनदयाल चौबदार, महेश गौतम सोनू आदि ने आयुक्त वासुदेव मालावत से भेंटकर राजस्व समिति के प्रस्ताव के बिना ज्यादा किराया वसूल करने पर आपत्ति जताई और तत्काल कार्रवाई करने की मांग की।

सुबह प्रतिपक्ष नेता अनिल सुवालका ने भी कांग्रेस पार्षदों के साथ आयुक्त से मुलाकात कर झूलों के किरायों की मनमानी वसूली कड़ी आपत्ति जताई। प्रतिपक्ष नेता ने कहा कि चम्बल गार्डन में बच्चे मनोरंजन के लिए घूमने आते हैं। इसलिए किराया नहीं बढ़ाने देंगे। इसके बाद शाम को आयुक्त के निर्देश पर राजस्व अधिकारी रिंकल गुप्ता टीम के साथ मौके पर पहुंची और प्रकाश एम्यूजमेंट के झूले को बंद कर दिया है।


शर्तों के उल्लंघ का दोषी माना

आयुक्त की ओर से प्रकाश एम्यूजमेंट के प्रबंधक को दिए नोटिस में निगम की बिना स्वीकृति के ही दरों में बढ़ोतरी करने को अनुबंध की शर्तों का उल्लंघन माना है। अत: संविदा शर्तों के उल्लंघन के कारण झूलों का संचालन आगामी आदेश तक तत्काल बंद करवाया जाता है। तीन दिन में कारण स्पष्ट करने को है।

[MORE_ADVERTISE1]