स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

करोड़ों की भूमि पर था कब्जा, पालिका ने हटाया....

Anil Sharma

Publish: Oct 13, 2019 23:53 PM | Updated: Oct 13, 2019 23:53 PM

Kota

रामगंजमंडी में पूर्व पालिकाध्यक्ष के भाई व एक अन्य ने अतिक्रमण कर बना रखे थे कमरे....किराए पर देकर कूट रहे थे चांदी....

रामगंजमंडी. पूर्व पालिकाध्यक्ष विजय गौत्तम के भाई अशोक गौत्तम व एक अन्य अतिक्रमी के कब्जे से पालिका प्रशासन ने पांच करोड़ की भूमि को रविवार अलसुबह चार बजे मयपुलिस जाप्ते चार बुलडोजर मशीनों की सहायता से तीन सौ से ज्यादा पुलिसकर्मियों व सौ से ज्यादा पालिकाकर्मियों के साथ प्रशासनिक अधिकारियों की पहेरदारी में अतिक्रमण से मुक्त करा दी। अतिक्रमण को हटाने के बाद मलवा फैंकने के लिए छोटे वाहनों की व्यवस्था से सात घंटे में पूरा अतिक्रमण साफ हुआ।
पूर्व पालिकाध्यक्ष के इस अतिक्रमण को तोडऩे के लिए स्वायतशासन विभाग की तरफ से दबाव आने पर जिला कलक्टर ओमप्रकाश कसेरा, कोटा ग्रामीण पुलिस अधीक्षक राजीव दुष्यंत शुक्रवार को रामगंजमंडी आए थे। उपखंड कार्यालय में उन्होंने अतिक्रमण को तोडऩे के लिए अधिशासी अधिकारी, पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देशित किया गया था। जिला कलक्टर की इस बैठक उपरांत पालिका की तरफ से अतिक्रमण को हटाने के लिए संसाधन जुटाने व पुलिस जाप्ते की तैयारियों के साथ अधिकारियों के साथ निरंतर बैठकों के माध्यमों से संवाद हुआ। शनिवार को दिनभर कार्रवाई चली। सारे प्रबंध करने के बाद पालिका से अतिक्रमण दस्ते में शामिल सफाई सेवकों के अलावा चार बुलडोजर मशीनों व एक दर्जन वाहनों का काफिला जुल्मी रोड स्थित पूर्व पालिकाध्यक्ष विजय गौत्तम के भाई का अतिक्रमण तोडऩे के लिए निकला। पुलिस के जवानों ने जुल्मी सड़क के दोनों हिस्सों में बेरिकेट्स लगाकर मार्ग को सील कर दिया। थानाधिकारियों के साथ पुलिस के जवानों ने रामगंजमंडी से जुल्मी व जुल्मी से रामगंजमंडी आने वाले मार्ग के अतिरिक्त आवासन मंडल वाले रास्ते व बाइपास को पूरी तरह से सीलबंद कर दिया। बुलडोजर मशीनों ने करीब चार बजे से अतिक्रमण तोडऩा शुरू किया। पूरी सड़क पर अलसुबह से ही पुलिसकर्मियों के साथ सफाईकार्मिकों का समूह देखा गया।

सात घंटे चले वाहन

अतिक्रमण को तोडऩे के लिए प्रशासन की कार्रवाई अलसुबह चार बजे शुरू हुई। सबसे पहले अतिक्रमण करके बनाई गई सात दुकानों के साथ बाड़े व कमरे को तोड़ा गया। सुबह सात बजे अतिक्रमण करके बनाया गया कमरा इस जद में आया जिस पर किसी अन्य का अतिक्रमण था। बुलडोजर मशीन का पंजा पड़ा तो कमरे के पत्थर दरकते हुए नीचे गिर गए। कमरे में एक जना सो रहा था जो टीम के सदस्यों को देखकर मौके से फरार हो गया। पालिका प्रशासन की टीम ने यहां से शराब की बोतले भी बरामद की।

पोर्टल पर लंबे समय से थी शिकायत

अधिशासी अधिकारी पंकज कुमार मंगल ने बताया कि जुल्मी रोड पर हो रहे उक्त अतिक्रमण की शिकायत संपर्क पोर्टल पर लंबे समय से की हुई थी। रविवार को हटाए गए अतिक्रमण में दो अतिक्रमी थे जिन्होंने सोलह जनों को किराए पर दुकानें दे रखी थी। पालिका की जिस भूमि पर अतिक्रमण था वह व्यवसायिक भूमि है जिसकी कीमत पांच करोड़ रुपए है।

काफिले में ये थे शामिल

उप जिला कलक्टर चिमनलाल मीण, तहसीलदार राजेन्द्र कुमार शर्मा, उपाधीक्षक मंजीत सिंह, थानाधिकारी धमेंन्द्र कुमार शर्मा, अधिशासी अधिकारी पंकज कुमार मंगल, मोडक, चेचट, सुकेत थानाधिकारी के अतिरिक्त कोटा पुलिस अधीक्षक कार्यालय मे तैनात उपाधीक्षक रामनिवास विश्रोई, नौ थानाधिकारी, 50 महिला पुलिसकर्मियों का जाप्ते के साथ 325 से ज्यादा पुलिसकर्मी व 100 से ज्यादा पालिकाकार्मिक अतिक्रमण हटाते समय मौके पर मौजूद रहे।