स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Krishna Janmashtami: लेखाधिकारी की कविता पढ़कर आप भी डूब जाओगे कृष्ण भक्ति में...

Zuber Khan

Publish: Aug 24, 2019 16:07 PM | Updated: Aug 24, 2019 16:07 PM

Kota

Krishna Janmashtami 2019: राजस्थान पत्रिका डॉट कॉम के पाठकों के लिए कृष्ण जन्मोत्सव को लेकर कविता प्रस्तुत हैं...

कोटा। पूरे देश में कृष्ण जन्मोत्सव बड़ी धूम धाम से मनाया जा रहा है। सभी अपने-अपने तरीके से नंदलाल के जन्मोत्सव का हर्ष व्यक्त कर हैं। कोटा शहर में भी जन्मोत्सव की धूम है। शनिवार रात को मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना होगी। साथ ही कृष्ण जन्म की बधाइयां गूंजेंगी। जन्म के अवसर पर शालिगराम को पंचामृत से स्नान करवाया जाएगा, माखन मिश्री, पंजीरी व मिष्ठानों से भोग लगाया जाएगा। कृष्ण जन्म के दर्शन रात को 12 बजे से होंगे।

Read More: बड़ी खबर: भारी बारिश से कोटा संभाग में 1000 करोड़ की फसलें तबाह, किसानों की आंखों से बहे आंसू

इसी बीच राजस्थान लेखा सेवा की अधिकारी डॉ. पुरवा अग्रवाल ने राजस्थान पत्रिका डॉट कॉम के पाठकों के लिए कृष्ण जन्मोत्सव को लेकर कविता की रचना की है। प्रस्तुत हैं उनकी कविता के कुछ अंश।

Read More: कृष्ण जन्मोत्सव पर कोटा को मिली सौगात: दुर्वा व फलहारी गणेश इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल

जन्माष्टमी का यह उत्सव
कृष्ण जन्म के जश्न का पर्व
नंदलाल का हुआ उदय
होता हर्षित, उमंगित, हृदय।

आज भांति-भांति के पाक बनेंगे
पूर्ण दिन उपवास मध्य रात्रि में खुलेंगे
दही हांडी का खेल खेला जाएगा।
झांकियों में कृष्ण जन्म मन को लुभाएगा।

मक्खन चुराने की रीत, राधा से प्रीत
कृष्ण देते गीता की भी सीख
जनमानस में कृष्ण यूं सम्मिलित
दैनिक अभिवादन हरे कृष्ण से अलंकृत

कृष्ण आमजन के प्रतीक हैं
शरारतें, अठखेलियां, क्रीड़ा में जैसे एक है
परिक्वता कृष्ण की महाभारत में
सामान्य होकर भी बुद्धि विचारों में।
कृष्ण जीवन की यौवनता भी है
कृष्ण स्थायित्व और संतुलन के प्रणेता भी हैं

व्यस्त तनावपूर्ण वर्तमान जीवनचर्या
कृष्ण का माधुर्य, सहजता, सरलता
भयरहित, निष्काम कर्म की मानसिकता
कृष्णमयी भावों की वर्तमान आवश्यकता
उल्लसित, तरंगित, उर्जित जीवन की कामना
कृष्ण का जीवन, इसकी पूर्ण अनुपालना

मन कृष्ण, बुद्धि कृष्ण, जीवन कृाष्णिक
कृष्णता आज अधिक प्रासंगिक
कृष्ण पूजनीय, कृष्ण प्रेरक, कृष्ण बहुरंग
मानवीय भावनाओं से जुड़े कृष्ण के प्रसंग।
भोग लगा, भजन कर, कृष्ण को पूजें हम
ईश्वर प्रतिकृति में आजमन सर्वाधिक निकट कृष्ण संग