स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दर्द से तड़पती प्रसूता को देख हड़ताल पर बैठी श्रमिक ने गेट पर प्रसव कराया

Deepak Sharma

Publish: Sep 11, 2019 19:41 PM | Updated: Sep 11, 2019 19:41 PM

Kota

कोटा. जेकेलोन अस्पताल के मुख्यद्वार पर बुधवार दोपहर एक प्रसूता का प्रसव हो गया। स्ट्रेचर नहीं मिलने पर अस्पताल के गेट के बाहर ही प्रसूता बीस मिनट तक तड़पती रही। यह देख बाहर हड़ताल पर बैठी ठेका श्रमिक ने गर्भवती को संभाला व सुरक्षित प्रसव करवाया।

कोटा. जेकेलोन अस्पताल के मुख्यद्वार पर बुधवार दोपहर एक प्रसूता का प्रसव हो गया। स्ट्रेचर नहीं मिलने पर अस्पताल के गेट के बाहर ही प्रसूता बीस मिनट तक तड़पती रही। यह देख बाहर हड़ताल पर बैठी ठेका श्रमिक ने गर्भवती को संभाला व सुरक्षित प्रसव करवाया। महिला ने बच्चे को जन्म दिया। प्रसव के बाद में दोनों को भर्ती कराया गया।

read more : इस बार हाथ हिलाकर दर्शकों का अभिवादन करेगा रावण

जानकारी के मुताबिक, स्टेशन क्षेत्र निवासी संतोष को प्रसव पीड़ा होने पर दोपहर करीब एक बजे जेकेलोन अस्पताल लाया गया था। अस्पताल के मुख्य गेट पर स्ट्रेचर नहीं होने पर महिला को बाहर ही लिटाया गया। बीस मिनट तक महिला दर्द से तड़पती रही। अंदर से कोई डॉक्टर व स्टाफ नहीं आने पर कार्य बहिष्कार पर बैठी ठेका श्रमिक ने सुरक्षित प्रसव करवाया। सोशल मीडिया पर इस सारे घटनाक्रम का वीडियो दिनभर वायरल होता रहा।

नहीं तो बच्चा की मौत हो जाती
ठेका श्रमिक कश्मीर बाई ने बताया कि गर्भवती महिला का तड़पना उससे देखा नहीं गया। वह दौड़ती हुई महिला के पास पहुंची। इसके बाद वह नाल को काटने के लिए कैंची लेने अंदर गई, लेकिन स्टाफ ने उसकी मदद नहीं की। स्टाफ बोला... डिलीवरी हो चुकी है। हम आ रहे हैं, जबकि बच्चा नाल में फंसा हुआ था। वह तुरंत लेबर रूम में रखी कैंची लेकर पहुंची और महिला का सुरक्षित प्रसव करवाया। महिला का पुत्र हुआ। कश्मीर ने बताया कि यदि बच्चा नाल में फंसा रहता तो उसकी मौत भी हो सकती थी।