स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कॉफी विद कलक्टर..2018 बैच के प्रशिक्षु अधिकारी विद्यार्थियों से होंगे रूबरू

Rajesh Tripathi

Publish: Dec 07, 2019 19:17 PM | Updated: Dec 07, 2019 19:17 PM

Kota

कॉफ ी विद कलक्टर का दूसरा सीजन

 

कोटा. जिला कलक्टर ओम कसेरा की ओर से कोचिंग विद्यार्थियों के तनावमुक्ति के कार्यक्रमों की शृंखला में शुरू किए गए नवाचार कॉफ ी विद कलक्टर का दूसरा सीजन रविवार को शाम 4 बजे कलक्टर निवास पर आयोजित होगा। जिसमें राजस्थान भ्रमण पर आए हुए भारतीय प्रशासनिक सेवा 2018 बैच के प्रशिक्षु अधिकारी भी विद्यार्थियों से रूबरू होंगे।कोचिंग संस्थानों के चुंनिदा विद्यार्थी भाग लेकर तनावमुक्त होकर अलग-अलग विद्याओं में अपनी प्रतिभा दिखाएंगे। कोचिंग संस्थानों में आने वाली परेशानी एवं दिनचर्या के बारे में अधिकारियों को खुले मन से फ ीडबैक देंगे।

गोशाला में मिली अवव्यवस्थाएं, कलक्टर बोल सुधार करो

कोटा. नगर निगम की ओर से बंधा धर्मपुरा में संचालित गोशाला का जिला कलक्टर ओम कसेरा ने शनिवार को निरीक्षण किया। इस दौरान व्यवस्थाओं में कई खामियां मिली। जिस पर कलक्टर ने जल्द सुधार करने पर जोर दिया।
उन्होंने गायों के टकराव को रोकने के इंतजाम नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा, ऐसा कैसे चल रहा है। यहां आने वाली गायों की सुरक्षा में कोताही क्यों की जा रही है। यहां इस प्रकार की व्यवस्था करें कि गायों को आवागमन में परेशानी नहीं हो और परिसर का अवलोकन भी बिना व्यवधान के किया जा सके। कलक्टर ने गायों की टेगिंग करने एवं नियमित साफ. सफ ाई पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। उन्होंने गोशाला प्रभारी के साथ टीम बनाकर जोधपुर नगर निगम की गोशाला का भ्रमण करवाकर वहां अपनाए जा रहे तरीकों के अनुसार सुधारात्मक कदम उठाने का भी सुझाव दिया। यह भीर का, गोशाला को अलग-अलग ब्लॉक में विभाजित कर गायों को छाया, पानी, धूप की व्यवस्था के साथ गुणवत्ता युक्त चारे की व्यवस्था नियमित की जाए।

शुरू हुआ शहर की सेहत का उत्सव, वॉक-ओ-रन की धूम
से पहले हेल्थ एक्सपो का आगाज

जिला कलक्टर ने गोशाला में ईंट बिछवाकर फर्श का निर्माण करवाने के कार्य को अच्छी पहल बताते हुए कहा, गोशाला में आने वाले चारे की गुणवत्ता की जांच करने, दुधारू गायों को अलग बाड़े में रखें। गोशाला विस्तार के लिए तृतीय चरण के कार्य का भी निरीक्षण किया तथा गुणवत्ता के साथ समय पर कार्य पूरा करें। उन्होंने गोशाला में रह रही सभी गायों के टेग लगाने तथा गोशाला में आने के दौरान टेग लगाकर की प्रवेश देने के निर्देश दिए। निरीक्षण के समय उन्होंने चारा डिपों का भी निरीक्षण किया एवं सुरक्षित भंडारण की व्यवस्था को देखा। गोबर की नीलामी प्रक्रिया की जानकारी लेकर प्रति दो माह में आवश्यक रूप से गोबर की नीलामी करने करने की सलाह दी।

Jee Main-2020 : कोटा को बड़ी राहत, परीक्षा केन्द्र 2 से
बढ़ाकर 9 किए

प्रशासक वासुदेव मालावत ने बताया कि गोशाला विस्तार का तृतीय चरण शुरू कर दिया गया है। वर्तमान में 2431 गाए गोशाला में हैं। उन्होंने बताया कि सूखे चारे के अलावा हरा चारा भी नियमित रूप से गायों को खिलाया जाता है जिसके टेंडर कर संवेदक को जिम्मेदारी दे रखी है।

[MORE_ADVERTISE1]