स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मध्यप्रदेश से हो रही है लगातार पानी की आवक, फिर खुले चम्बल के सभी बांधों के गेट

kamlesh sharma

Publish: Sep 20, 2019 19:43 PM | Updated: Sep 20, 2019 19:43 PM

Kota

मध्यप्रदेश से हो रही लगातार पानी की आवक के चलते एक बार फिर शुक्रवार को चम्बल के सभी बड़े बांधों के गेट खोले गए।

कोटा/रावतभाटा। मध्यप्रदेश से हो रही लगातार पानी की आवक के चलते एक बार फिर शुक्रवार को चम्बल के सभी बड़े बांधों के गेट खोले गए। मध्यप्रदेश सीमा में स्थित गांधीसागर बांध से छोड़े जा रहे पानी से राणाप्रताप सागर बांध में पानी की आवक बनी हुई है।

इससे जवाहरसागर बांध व कोटा बैराज के गेट भी एक बार फिर खोले गए हैं। जबकि गुरुवार तक बांधों से एक ही गेट खोलकर पानी की निकासी की जा रही थी।

जल संसाधन विभाग के अधिकारियों के अनुसार शुक्रवार को गांधीसागर बांध का जलस्तर 1310.04 फीट था। बांध में 25 हजार 612 क्यूसेक पानी की आवक बनी हुई है।

खौफनाक मंजर: चंबल की उफनती लहरें किनारे लौटी तो पीछे छोड़ गई तबाही के निशां, तस्वीरों में देखिए विनाशलीला

जबकि तीन स्लूज गेट खोलकर 78 हजार 110 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है। वहीं राणाप्रताप सागर बांध के दो गेट खोलकर 72 हजार 472 क्यूसेक पानी की निकासी की गई। बांध में 90 हजार 259 क्यूसेक आवक बनी हुई है।

बांध का जलस्तर 1157.27 फीट पर है। इधर, जवाहर सागर बांध में 1 लाख 10 हजार 904 क्यूसेक पानी की आवक बनी हुई है। बांध का जल स्तर 977.20 फीट है। बांध से 1 लाख 1 हजार 224 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

इसी प्रकार कोटा बैराज बांध का जल स्तर 852.20 फीट है। बांध में पानी की अवाक होने पर सुबह से ही पांच गेट खोलकर 1 लाख 2 हजार 262 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था। शाम तक पानी की आवक कम हुई तो 65 हजार क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही थी।

तेज हवा के साथ बारिश से गिरे बिजली पोल, धराशायी हुए पेड़, डिस्कॉम को लाखों का नुकसान

शर्मनाक! एएसआई ने बुजुर्ग को जड़ा थप्पड़, वीडियो वायरल हुआ तो किया सस्पेंड