स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सीबीएसई की अनूठी पहल: विद्यार्थियों की "रचनात्मकता एवं कल्पनाशक्ति" को लगेंगे पंख

Suraksha Rajora

Publish: Nov 11, 2019 19:21 PM | Updated: Nov 11, 2019 19:21 PM

Kota

मेरी कहानी-मेरी जुबानी" : एक "स्टोरी टेलिंग" प्रतियोगिता

कोटा. सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन द्वारा पिछले कुछ समय से विद्यार्थियों की रचनात्मकता, कल्पनाशीलता,विश्लेषण क्षमता तथा भाषा ज्ञान को सुधारने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। गत 8 नवंबर को सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट पर डायरेक्टर स्कूल एजुकेशन एवं ट्रेनिंग के हवाले से एक नोटिस जारी किया गया।

इस नोटिस के तहत सीबीएसई से संबद्ध सभी विद्यालयों के संस्था-प्रधानों को संबोधित करते हुए लिखा गया है कि बोर्ड आगामी 18 नवंबर से "मेरी कहानी-मेरी जुबानी" नाम से एक अनूठी स्टोरी टेलिंग प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रहा है। कैरियर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट देव शर्मा ने बताया कि "स्टोरी-टेलिंग" भारतीय संस्कृति में "शिक्षा की एक अनूठी विधा" है।

"स्टोरी -टेलिंग" की यह विधा विद्यार्थियों की रचनात्मकता, कल्पना शक्ति, शब्द-ज्ञान तथा संवाद क्षमता को बेहतरीन तरीके से विकसित करती है। विद्यार्थियों की उपरोक्त क्षमताओं का विकास हो यही इस अनूठी प्रतियोगिता का मूल उद्देश्य है।

"स्टोरी-टेलिंग" हेतु टॉपिक्स का चयन "विषयवार"

"स्टोरी-टेलिंग" प्रतियोगिता के लिए विद्यार्थियों को चार श्रेणियों में बांटा गया है। प्राइमरी, मिडिल, सेकेंडरी तथा सीनियर सेकेंडरी। चारों श्रेणीयों हेतु विद्यार्थियों को "विषय-चयन" की छूट दी गई है। देव शर्मा ने बताया कि उपरोक्त प्रतियोगिता की सबसे खूबसूरत बात है कि "स्टोरी-टेलिंग" को "विषय-ज्ञान" से जोड़ा गया है।

प्रत्येक विषय से विद्यार्थियों के लिए स्टोरी टेलिंग के लिए टॉपिक्स दिए गए हैं। दिए गए इन टॉपिक्स पर ही विद्यार्थियों को "मेरी कहानी-मेरी जुबानी"* कहनी होगी। देव शर्मा ने बताया कि *बायोलॉजी विषय में "रक्त यात्रा", सामाजिक विज्ञान में "पंचशील" फिजिक्स में "भारहीनता का जादू" तो हिंदी में मुंशी प्रेमचंद की "फटे जूते" नामक कहानी पर आधारित एक टॉपिक "जूते की कीमत" दिया गया है।


तीन स्तरों पर आयोजित होगी प्रतियोगिता

"स्टोरी-टेलिंग" प्रतियोगिता का आयोजन त्रिस्तरीय होगा। प्रतियोगिता का प्रारंभ स्कूल स्तर से होगा तथा यह 18 से 23 नवंबर के मध्य आयोजित किया जाएगा। विद्यार्थियों की चारों श्रेणियों से प्रत्येक में से एक-एक सर्वश्रेष्ठ विद्यार्थी का चयन किया जाएगा। तत्पश्चात द्वितीय स्तर का आयोजन 24 नवंबर से 30 नवंबर के मध्य रीजनल लेवल पर किया जाएगा। रीजनल लेवल पर स्टोरी टेलिंग प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए चयनित विद्यार्थियों को 2 मिनट से 4 मिनट का स्टोरी टेलिंग का वीडियो विशेष रूप से डिजाइन किए गए "स्टोरी टेलिंग एप" पर अपलोड करना होगा।

देव शर्मा ने बताया कि विद्यार्थियों द्वारा अपलोड की गई "स्टोरी" का आंकलन "रचनात्मकता", "धारा प्रवाह संभाषण" तथा स्टोरीटेलिंग के दौरान विद्यार्थियों की "भाव- भंगिमा" के आधार पर किया जाएगा। उपरोक्त आंकलन के पश्चात चयनित विद्यार्थियों हेतु तृतीय स्तर का आयोजन राष्ट्रीय स्तर पर 19 एवं 20 दिसंबर को किया जाएगा। तथा विजेताओं को राष्ट्रीय स्तर पर मेडल एवं सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]