स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंत्री धारीवाल ने भाजपा पर साधा निशाना: कहा- निगम में भाजपा पार्षद और सड़कों पर सांड लड़ते रहे

Zuber Khan

Publish: Oct 21, 2019 08:00 AM | Updated: Oct 20, 2019 23:39 PM

Kota

Body elections 2019: Nagar Nigam elections, Minister dhariwal: स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि पांच सालों तक निगम में भाजपा पार्षद और सड़कों पर सांड लड़ते रहे...

 

कोटा. महापौर पद के लिए आरक्षण लॉटरी निकलने के बाद कोटा उत्तर से विधायक और स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ( UDH Minister shanti dhariwal ) ने कहा कि कांग्रेस कोटा शहर की दोनों नगर निगमों में भाजपा को कड़ी टक्कर देगी। ( Body elections 2019 ) इस बार भाजपा को बोर्ड बनाने का सपना भूलना होगा। भाजपा बोर्ड के पिछले पांच साल के कार्यकाल में एक भी काम ऐसा नहीं हुआ, जिसे जनता को बता सकें। नगर निगम में भाजपा पार्षद लड़ते रहे और सड़कों पर सांड लड़ते रहे। भाजपा बोर्ड के कार्यकाल में शहर की हालत बहुत बिगड़ी, इससे जनता में भाजपा के प्रति असंतोष है। पत्रिका से धारीवाल की बातचीत।

पत्रिका: कांग्रेस किस आधार पर चुनाव जीतने का दावा कर रही है?

धारीवाल: भाजपा बोर्ड पिछले पांच साल में सफाई, आवारा मवेशियों को सड़कों से हटाने और विकास कार्य कराने में पूरी तरह विफल रहा। आम जनता को छोटे-छोटे कार्यों के लिए निराश होना पड़ा। इसलिए जनता बदलाव चाहती है। कांग्रेस सरकार ने अच्छा कार्य किया है, इसलिए माहौल बदल गया।

पत्रिका: केन्द्र की भाजपा सरकार ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाई उसका क्या असर रहेगा?

धारीवाल: स्थानीय निकाय चुनाव में कोई भी राष्ट्रीय मुद्दा प्रभावी नहीं रहेगा। छोटे-छोटे वार्डों में लोग उन्हें चुनेंगे जो उनकी स्थानीय समस्याओं का समाधान देंगे।

पत्रिका: कोटा दक्षिण और कोटा उत्तर नगर निगम में से कौनसी जगह कांग्रेस का ज्यादा असर है?

धारीवाल: निकाय चुनावों में शहर की दोनों नगर निगमों में कांग्रेस के प्रत्याशियों को जनता चुनेगी, ऐसा मेरा विश्वास है। क्योंकि भाजपा का बोर्ड बनाकर जनता परेशानी झेल चुकी है।

पत्रिका: प्रत्याशियों का चयन कैसे करेंगे?

धारीवाल: पार्टी अपनी रीति-नीति के अनुसार बेहतर उम्मीदवार का चयन करेगी। अध्यक्ष और पार्षद पद के लिए अच्छे उम्मीदवार मैदान में आएंगे। इसका निर्णय पार्टी करेगी। कांग्रेस एकजुट और एकराय होकर चुनाव लड़ेगी। कांग्रेस का बोर्ड बनने के बाद जनता को समस्याओं का समाधान देंगे।