स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

16 साल बाद फिर से महिला के हाथों में आई सांगोद पालिका की कमान, जानिए, किस वर्ग की महिला होगी चेयरमैन

Zuber Khan

Publish: Oct 21, 2019 09:47 AM | Updated: Oct 21, 2019 09:47 AM

Kota

Bodies election lottery, municipality Elections, municipal corporations : नगर निकाय चुनाव में सांगोद नगर पालिका की कमान इस बार महिला के हाथ होगी।

सांगोद. नगर निकाय चुनाव ( Rajasthan bodies election ) में सांगोद नगर पालिका की कमान इस बार महिला के हाथ होगी। (Sangod municipality election ) रविवार को जयपुर में निकली लॉटरी में पालिका अध्यक्ष पद सामान्य महिला के लिए आरक्षित हुआ है। पालिका गठन के बाद यह दूसरा मौका होगा जब यहां पालिका की सत्ता महिला के हाथ होगी। इससे पूर्व आरक्षण लॉटरी को लेकर लोगों में सुबह से ही उत्साह रहा।

Read More: मंत्री धारीवाल ने भाजपा पर साधा निशाना: कहा- निगम में भाजपा पार्षद और सड़कों पर सांड लड़ते रहे

शाम सात बजे जैसे ही लॉटरी में अध्यक्ष पद महिला के लिए आरक्षित हुआ तो पुरूष दावेदारों के अरमान टूट गए। लॉटरी को लेकर पुरूष दावेदारों में जो उत्साह था वो लॉटरी के साथ ही निराशा में बदल गया। उल्लेखनीय है कि यहां नवम्बर माह में नगर पालिका के पच्चीस वार्डों के लिए चुनाव होने हैं। वार्डो की आरक्षण लॉटरी पहले ही निकल चुकी है, ऐसे में लोगों को अध्यक्ष पद की आरक्षण लॉटरी का इंतजार था।


लॉटरी से लगा झटका
नगर निकाय चुनाव में पालिकाध्यक्ष के लिए वार्ड आरक्षण लॉटरी के बाद अध्यक्ष पद को लेकर पुरूष दावेदार उत्साहित थे। कई दावेदारों ने तो अध्यक्ष बनने के लिए तैयारियां भी शुरू कर दी थी। लोगों से सम्पर्क शुरू कर दिया था लेकिन रविवार को निकली आरक्षण लॉटरी के बाद पुरूष दावेदारों की अध्यक्ष बनने की उम्मीद टूट गई।

Read More: भाजपा का कांग्रेस पर पलटवार: विधायक संदीप बोले-मोदी की आंधी में उड़ जाएगी कांग्रेस

दूसरी बार महिला बनेगी अध्यक्ष
पालिका गठन के बाद दूसरा मौका है जब सत्ता महिला के हाथ होगी। इससे पूर्व वर्ष 2004 में भाजपा की बसंती बाई सुमन अध्यक्ष बनी थीं। महिला अध्यक्ष का यह कार्यकाल उठापठक वाला रहा। पांच साल में बार-बार अध्यक्ष बदले गए, तब तीन महिलाओं बसती बाई, सीमा सोनी व सावित्री प्रजापत को अध्यक्ष बनने का मौका मिला था।