स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खूबसूरती को लगा लापरवाही का ग्रहण, उजड़ रहे सब्जबाग

Mukesh Gaur

Publish: Dec 13, 2019 19:23 PM | Updated: Dec 13, 2019 19:23 PM

Kota

सीबी गार्डन में फव्वारे, किशोरसागर की बोट बंद : सौन्दर्यीकरण के सपने दिखाकर संभाल नहीं सका न्यास, करोड़ों पानी में बहाए, उद्यान बदहाल

हाबूलाल शर्मा
कोटा. सपने दिखाने में माहिर नगर विकास न्यास और उसके कर्ताधर्ताओं ने राज्य की कांग्रेस सरकार के पिछले कार्यकाल में सीबी गार्डन का लोक लुभावन सपना दिखाकर करोड़ों रुपए खर्च कर दिए। आज हालात यह है कि कर्ताधर्ता इस पार्क को जाकर देखते तक नहीं। पार्क की हालत बद्तर हो चुकी है। झूले टूट गए तो फव्वारे बंद पड़े हैं। यही हाल किशोर सागर का है। यहां भी लाखों रुपए खर्च कर न्यास ने काम कराए थे। यहां कुछ महिने बोटिंग हुई, लेकिन उसके बाद धीरे-धीरे बोट गायब होती गईं। हकीकत यह कि न्यास के अधिकारियों ने ही यहां बोट बंद करा रखी है।

read also : डब्ल्यूटीओ ने दिया सुपर पावर फूड का दर्जा,कुपोषण से लड़ेगी और तंदुरुस्त भी करेगी 'सहजन '

सीबी गार्डन में बच्चों की जगह अब बंदरों की उछलकूद
नयापुरा स्थित छत्र विलास उद्यान का करोड़ों रुपए खर्च कर सौंदर्यीकरण करवाया गया था। अब हालत यह है कि उद्यान में स्थित तालाब देखरेख के अभाव में बदहाल हो गए। पूरे तालाब में कंजी छाई हुई है। लोग इस गंदगी के बीच ही मजबूरन बोटिंग करने के लिए जाते हैं तो अधिकांश तालाब में छाई कंजी को देख बिना बोटिंग किए लौट जाते हैं। उद्यान के मुख्य आकर्षण फव्वारे भी कई वर्षों से बंद पड़े हैं। झूले व फिसलपट्टियां टूटी पड़ी हंै। यहां बच्चों की जगह दिनभर बंदर उछलकूद करते नजर आते हैं। बदहाली के चलते यहां लोगों की आवाजाही सुबह की सेर करने वाले लोगों के अलावा कम हो गई है।

read also : तस्करो का नया फंडा ,अब ऐसे होती है तस्करी

तब बड़े-बड़े वादे, अब हाथ लगती निराशा
पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किशोरसागर तालाब में 15 अगस्त 2015 को एक भव्य समारोह में इसका उद्घाटन किया गया था। तालाब में बोटिंग की जिम्मेदारी नगर विकास न्यास की थी। न्यास ने 2015 से 2020 तक के लिए नावें चलाने का ठेका एक कम्पनी को दिया। शुरुआत में कम्पनी की ओर से 7-8 नावें जिसमें शिकारा, स्पीड बोट, स्कूटर, ट्यूरिस्ट बोट, जोरबिंग बॉल, वाटर रोलर सहित अन्य नावें एक साथ शुरू की थी। शुरुआती छह महिनों में बोटिंग के लिए खूब पर्यटक आए। बाद में पर्यटक कम आने से मात्र दो तीन नावें ही चलने लगी। ठेकेदार कम्पनी को पर्यटक नहीं मिलने से न्यास में राशि जमा नहीं करवाई तो ठेकेदार कम्पनी को अप्रेल 2018 से बोट संचालन का काम बंद करवा दिया। इसके बाद न्यास ने ना तो उस कम्पनी से बात की ना ही नए टेंण्डर निकाले। तालाब की पाल पर घूमने आए बारां के दम्पती अशोक व ममता सैनी ने बताया कि बच्चों के साथ यहां घूमने आए थे। लेकिन यहां आने के बाद पता चला की बोटिंग बंद है।

read also : पार्क नहीं जंगल चाहिए,प्रस्तावित ओक्सीजोन योजना के साथ खिलवाड नहीं करेंगे बर्दाश्त ,भाजपा कार्यकर्ताओं ने खोला मोर्चा, दी ये चेतावनी

गोपाल निवास बाग : टूट गए झूले
नयापुरा स्थित गोपाल निवास बाग का सौंदर्यीकरण कर 14 जनवरी 2013 को इसका लोकार्पण कर जनता के लिए खोला गया था। इस उद्यान में भी बच्चों के लिए झूले-फिसलपट्टियां लगाई गई। देखरेख के अभाव में झूले व फिसलपट्टियां टूट गई। बच्चों के साथ कुन्हाड़ी से आई ममता तिवारी ने बताया कि उद्यान में एंट्री के लिए शुल्क वसूला जाता है तो न्यास को पार्कों के रखरखाव का ध्यान भी रखना चाहिए।

छत्र बिलास उद्यान, नागाजी का बाग और गोपाल निवास बाग, शहर के प्रमुख उद्यानों का नियमित रखरखाव किया जाता है। इसमें किसी तरह की कोताही हो रही है या कोई खामी है तो उसे दुरुस्त कराया जाएगा।
भवानीसिंह पालावत, सचिव, नगर विकास न्यास

[MORE_ADVERTISE1]