स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

5 में नाश्ता, 20 में पूडी-सब्जी, 50 में भरपेट खाना

Rajesh Tripathi

Publish: Dec 08, 2019 08:17 AM | Updated: Dec 07, 2019 18:36 PM

Kota

मेडिकल कॉलेज व एमबीएस अस्पताल में डॉक्टर
व कर्मचारियों को मिलेगा भरपूर खाना

 

कोटा. मेडिकल कॉलेज व एमबीएस अस्पताल में आने वाले दिनों कैंटीन में डॉक्टर व कर्मचारियों को भरपूर नाश्ता व खाना मिलेगा। कॉलेज व एमबीएस अस्पताल में कैंटीन खुलने के बाद डॉक्टर व कर्मचारियों के लिए 50 रुपए में खाने की थाली मिलेगी। जिसमें अलग-अलग तरह के व्यंजन होंगे। 20 रुपए में पूडी-सब्जी मिलेगी। 5 रुपए कचोरी-समोसा व चाय मिलेगी। कैंटीन खुलने के बाद डॉक्टर व कर्मचारियों को नाश्ता व भोजन के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा।

READ MORE : तलाकशुदा को प्रेमजाल में फंसाया, नशीला पदार्थ पीलाकर बनाए अश्लील वीडियो


करीब दो हजार है डॉक्टर व कार्मिक

मेडिकल कॉलेज में वर्तमान में 250 विद्यार्थी अध्ययनरत है। जूनियर व सीनियर रेजीडेंट, डॉक्टर, आयुष चिकित्सक व स्टाफ कार्यरत है। वैसे ही एमबीएस अस्पताल में भी रेजीडेंट, डॉक्टर व 600 कार्मिक कार्यरत है। कुल मिलाकर करीब दो हजार कार्मिक कार्यरत है। इनके लिए यह सुविधा रहेगी। मेडिकल कॉलेज प्रशासन का कहना है कि कॉलेज में बाहर के स्टूडेंट रहते है। कई बार इनके अभिभावक बाहर चले जाते है। ऐसे में वे अकेले रहते है। उनके लिए यह सुविधा बेहतर होगी।

शुरू हुआ शहर की सेहत का उत्सव, वॉक-ओ-रन की धूम
से पहले हेल्थ एक्सपो का आगाज

वर्षों से बंद पड़ी कैंटीन
कॉलेज व एमबीएस अस्पताल में वर्षों से कैंटीन बंद पड़ी है। पहले भी कॉलेज प्रशासन ने कैंटीन को चालू करने के लिए निविदा जारी की थी, लेकिन कोई नहीं आया था। इस कारण वे चालू नहीं हो पाई। इस बार फिर कॉलेज प्रशासन ने फिर से निविदा जारी की और सफल रहे। प्रशासन का कहना है कि कॉलेज के लिए निविदा खुल चुकी है। जबकि एमबीएस अस्पताल में इसकी प्रक्रिया अंतिम चरण में है।

इनका यह कहना

कॉलेज व एमबीएस अस्पताल में वर्षों से कैंटीन बंद पड़ी थी। पहले निविदा जारी की थी, लेकिन कोई नहीं आया था, लेकिन इस बार कुछ संवेदक आए है। कॉलेज में एग्रीमेंट होना शेष है। जबकि एमबीएस अस्पताल में निविदा खुलना शेष है। यहां एक ही संवेदक आया है। दोनों जगहों पर कैंटीन चालू हो जाएगी। कैंटीन में कम दरों पर डॉक्टर व कर्मचारियों को बेहतर गुणवत्ता का नाश्ता व खाने की बेहतर सुविधा दी जाएगी।

डॉ. विजय सरदाना, प्राचार्य, मेडिकल कॉलेज

[MORE_ADVERTISE1]