स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अधिवक्ताओं ने रैली निकाली, प्रदर्शन कर राज्य सरकार को चेताया...

DHIRENDRA TANWAR

Publish: Oct 19, 2019 19:47 PM | Updated: Oct 19, 2019 19:47 PM

Kota

हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर जताया विरोध, कलक्टर को सौंपा ज्ञापन

कोटा. अभिभाषक परिषद द्वारा हाई कोर्ट की बेंच की मांग को लेकर पिछले 16 वर्षों से लगातार किए जा रहे आंदोलन के क्रम में शनिवार को अभिभाषक परिषद के बैनर तले अधिवक्ताओं ने न्यायालय परिसर से रैली निकालकर विरोध जताया। अधिवक्ताओं ने जिला कलक्टर के माध्यम से विधि मंत्री को ज्ञापन भेजकर हाड़ौती के लोगों को सस्ता व सुलभ न्याय दिलवाने के लिए कोटा में हाईकोर्ट बेंच की स्थापना की मांग की।

Read mroe : इंजीनियर बनना है? कॉलेज में एडमिशन से पहले ध्यान रखें ये बातें....

अभिभाषक परिषद के अध्यक्ष दीपक मित्तल ने बताया कि शनिवार को अधिवक्ता न्यायालय परिसर में एकत्र हुए, जहां से रैली के रूप में जिला कलक्टर कार्यालय पहुंचे। इस दौरान अधिवक्ता हाईकोर्ट बैंच की स्थापना करो, हाड़ौती के लोगों को सुलभ न्याय दिलाओ की मांग करते चल रहे थे। इस अवसर पर अधिवक्ताओं ने पूर्णतया न्यायिक कार्य स्थगित रखा गया एवं रैली निकालकर जिला कलक्टर को विधि मंत्री राजस्थान सरकार के नाम ज्ञापन सौंपा व विरोध प्रदर्शन किया।
परिषद के महासचिव योगेन्द्र मिश्रा ने बताया कि कोटा संभाग में हाईकोर्ट की बेंच की मांग को लेकर 2003 से लगातार आंदोलन किया जा रहा है, क्योंकि जयपुर हाइकोर्ट में कोटा संभाग के लगभग 40 फीसदी मुकदमे पेंडिंग है, इसलिए कोटा संभाग में हाइकोर्ट बेंच की स्थापना कोटा के जनमानस का अधिकार है। अधिवक्ताओं ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा यदि हाई कोर्ट बेंच के मांग को लेकर सकारात्मक रुख नहीं दिखाया गया, तो आंदोलन को उग्र एवं जन-जन को जोडऩे के लिए शीघ्र ही परिषद द्वारा राज्य स्तर पर जन प्रतिनिधि एवं कोटा के व्यापारिक व सामाजिक संस्थाओं को साथ लेकर आंदोलन किया जाएगा।

Read moe ; ट्रेन में टिकट भूल जाइए , दस दिन ट्रेनों में रहेगी मारामारी, नो रूम, लंबी वेटिंग...

परिषद के निगरानी समिति के संयोजक शैलेष शर्मा, सहसंयोजक मोहम्मद हनीफ खान, परिषद उपाध्यक्ष हरीश शर्मा, संयुक्त सचिव जितेन्द्र सिंह हाड़ा, आशीष गौतम, शाकिर हुसैन कई अधिवक्ता, मुंशी, टाइपिस्ट भी शामिल थे एवं कलेक्ट्रेट चौराहे पर सभी ने नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान अदालत परिसर में न्यायिक कार्य पूर्णतया बंद रहा। नोटरी, टाइपिस्ट संघ, मुंशी संघ सभी ने पूर्णतया सहयोग कर कामकाज बंद रखा।