स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सीबीएसई परीक्षा :  हर पेपर में दो सवाल सिलेबस से बाहर से आएंगे

Rajesh Tripathi

Publish: Oct 19, 2019 20:16 PM | Updated: Oct 19, 2019 20:16 PM

Kota

सीबीएसई अब डिजिटलाइजेशन मोड पर, हर स्कूल की होगी
अपनी ईमेल आईडी, मिलेगा यूनिक कोर्ड

 

 

 

 

कोटा. सीबीएसई कंट्रोलर ऑफ एग्जामिनेशन डॉ. संयम भारद्वाज ने कहा कि सीबीएसई अब डिजिटलाइजेशन मोड की तरफ जा रहा है। हर स्कूल की ईमेल जनरेट होगी और यूनिट कोर्ड दिया जाएगा। इससे परीक्षा व अन्य समस्याओं को लेकर स्कूल सीधे सीबीएसई से हर समस्याओं का समाधान करवा सकेगा।

यह बात उन्होंने लोरेंस एण्ड मेयो स्कूल में कोटा सहोदय स्कूल काम्प्लेक्स से जुड़े स्कूल निदेशक, प्रिंसिपल, संचालकों के साथ बैठक में कही। बैठक में उन्होंने परीक्षा व अन्य मुद्दों पर चर्चा की।
उन्होंने कहा कि आगामी दसवीं व बारहवीं बोर्ड पेपरों में बदलाव हुए है। इसके चलते संचालक बच्चों की मदद के लिए सेम्पल पेपर का सहारा लें। भारद्वाज ने कहा कि अब बच्चों की मानसिक, तार्किक शक्ति व ज्ञानवर्धन के लिए आगामी हर एग्जाम में दो सवाल सिलेबस से बाहर से आएंगे। इसके लिए संचालकों को अभी से बच्चों को तैयारी करना शुरू करना होगा। इससे विद्यार्थी को परीक्षा के समय किसी तरह की परेशानी नहीं हो। दसवीं बोर्ड परीक्षा में गणित विषय में बेसिक व स्टेंडर्ड का फार्मूला अपनाया है। इसमें कुछ विद्यार्थी बदलाव करना चाहते है, लेकिन लॉक हो गया है। इस पर उन्होंने कहा कि एक सप्ताह के लिए लॉक को खोला जाएगा। उस समय विद्यार्थी इसमें बदलाव कर सकेंगे। बैठक में संरक्षक दीपक सिंह, अध्यक्ष प्रदीप सिंह गौड़, स्कूल निदेशक नुकूल विजय, महेश गुप्ता, दिनेश विजय, शलभ विजय, डॉ.परवेज समेत कई सीबीएसई स्कूल संचालक मौजूद रहे।

इंजीनियर बनना है? कॉलेज में एडमिशन से पहले ध्यान रखें ये बातें

बैठक में यह उठे मुद्दे

1. बोर्ड परीक्षाओं के समय कॉपी जांच के लिए सीबीएसई की ओर से प्राइवेट स्कूल के एग्जामिनर की ड्यूटी लगाई जाती है, लेकिन कई बार किन्ही कारणों से वे कॉपी जांच नहीं पाते है। ऐसे में सीबीएसई उन पर 50 हजार रुपए तक जुर्माना लगाती है। इससे शिक्षकों पर भार पड़ता है।

2. सीबीएसई स्कूल्स अच्छा काम करते है, लेकिन उनके कामों को कभी सराहा नहीं जाता है। उनके कामों की सराहना की जानी चाहिए।

3. सीबीएसई की ओर से हर दो से तीन दिन में नए-नए सकुर्लर जारी किए जा रहे है। इससे संचालक परेशान है।

4. स्कूल्स समस्या समाधान के लिए सीबीएसी को अवगत कराता है, लेकिन उसका कोई जवाब तक नहीं मिलता।

कोटा के काम की सराहना
भारद्वाज ने कोटा सहोदय स्कूल काम्प्लेक्स ग्रुप के कामों की सराहना की। उन्होंने कहा कि कोटा बहुत ही अच्छा है। यहां ग्रुप के साथ जुड़कर स्कूल्स अच्छा काम कर रहे है। ग्रुप के अच्छे कार्यों के कारण कोटा देश में तीसरे नम्बर पर स्थान बनाया हुआ है। उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि बिरला के लोकसभा अध्यक्ष बनने से कोटा के लिए वरदान है।