स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस गांव में महिलाएं हो गई इतनी प्रताड़ित कि प्रशासन की आँख खोलने कर रहे ऐसा काम

Bhupesh Tripathi

Publish: Aug 03, 2019 15:51 PM | Updated: Aug 03, 2019 15:51 PM

Kondagaon

यहां न सरकार का विकास पंहुचा पाया, न ही ग्रामीणों को मिला न्याय

कोण्डागांव। छत्तीसगढ़ का एक इलाका जहा महिलाएं मानसिक रूप से प्रताड़ित होकर गांव के बीच में ऐसा हरकत करने में उतारू हो गए जिसे देख सभी की बोलती बंद हो गई। साल भर गांव के सभी इस परेशानी से जूझ रहे हैं। यह खबर है प्रदेश के कोंडागांव जिले की जहा महिलाओं ने सरकार और प्रशासन (chhattisgarh Government) के खिलाफ एक विरोध जताने का एक अनोखा तरीका अपनाया है।

काम की खबर: वैज्ञानिकों ने किया रिसर्च, अब धान की खेती के लिए नहीं है पानी की जरूरत

सालों से सड़क के खस्ताहाल से परेशान ग्रामीणों ने आखिरकार शुक्रवार की सुबह बीच सड़क में धान के पौधों को रोपकर (woman farming on road) अपना विरोध जताया है। मामला जिला मुख्यालय (District headquater) से महज दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम पंचायत पलारी का है। जहां पटेल खासपारा में निवासी वर्षो से उनके मोहल्ले में सड़क नहीं होने के चलते उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था।

विधायक के कहने से शुरू हुई डैम की खुदाई, अब मंत्री करेंगे कार्रवाही, पढ़े पूरा मामला

ऐसा नहीं कि, पंचायत प्रतिनिधि इससे अनजान है, लेकिन वे भी अपनी कागजी कार्रवाई करने में कोई कमी तो नहीं की, पर उच्च कार्यालयों से यहां के सड़क की प्रस्ताव वाली फाईल ही आगे नहीं बढ़ पाई। जिसके चलते इस इलाके के ग्रामीणों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। बारिश (rainy) के दिनों में इस मार्ग से गुजर पाना भी दुभर होने लगा हैं।

Video: सेल्फी लेते वक्त फिसल गया पैर, उफनते नदी में जा पहुंची युवती

यही वजह है कि, ग्रामीणों ने विरोध दर्ज करवाते हुए इस मार्ग में ही रोपाई (farming) कर दी। इसके साथ ही इसमें युरिया आदि भी डालने की तैयारी चल रही है, ताकि पंचायत के नक्शे में अब तक जिसे सड़क दर्शाया जा रहा है उसे सड़क की जगह खेत ही दर्शया जा सके।

पंचायत के प्रस्ताव पर नहीं हो पाया अमल
दरअसल गांव के विकास के लिए ग्रामसभा की बैठकों में इस सड़क का उल्लेख वैसे तो हर बार किया जाता रहा और इसके निर्माण कराए जाने का प्रस्ताव पंचायत स्तर से पास भी होता है । उच्च कार्यालय को भी समय-समय पर भेजे जाने की बात पंचायत प्रतिनिधि कह रहे है। बावजूद इसके पंचायत में कोई सुधर नहीं हो पाई।

यहां तिरपाल लगाकर किया जाता है दाह संस्कार, परिजनों की तकलीफ जानकर भड़क जाएंगे आप

इस सड़क के प्रस्ताव पर शायद किसी ने ध्यान नहीं दिया या फिर कार्यालयीन लापरवाही के चलते यह सड़क निर्माण की स्वीकृति ही नहीं मिल पाई। जिसका खामियाजा ग्रामीणों को सालभर भुगतना पड़ रहा हैं। हांलांकि कुछ दिनों पहले ही पंचायत ने इस मार्ग में बने गड्डों को पाटने के लिए मुरूम डलवाया तो था, लेकिन उसके बाद से लगातार बारिश होने के चलते पंचायत की यह तरकीब भी काम नहीं आई और बल्कि इससे ज्यादा कीचड़ सड़क पर फैलकर दलदल हो गया।

समय-समय पर पंचायत से सड़क (Devlopment of village) निर्माण के लिए प्रस्ताव पारित कर उच्च कार्यालय को भेजा जाता रहा है, लेकिन स्वीकृति के अभाव में यह नहीं बन पाया हैं।

प्रमिला मरकाम, सरपंच ग्रापं. पलारी

Raed More chhattisgarh news .