स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुकमा में आ सकती है बाढ़, नदी में पानी का स्तर बढ़ने से फंसे जवान

Bhupesh Tripathi

Publish: Jul 29, 2019 16:01 PM | Updated: Jul 29, 2019 16:01 PM

Kondagaon

Flood in chhattisgarh: बारिश का कहर - अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि लगातार हो रही बारिश से नदी नालों में बाढ़ की स्थिति पर लगातार निगरानी रखी जाए।

कोण्डागांव। छत्तीसगढ़ के घोर नक्सली प्रभावी इलाके में लगातार दो दिनों से हो रही बारिश के चलते इलाके के कुछ नदी-नालों में पानी खतरे के निशान से उपर बहने लगा हैं। अनुमान लगाया जा रहा है यदि बारिश बंद नहीं हुआ तो समस्या और बढ़ जाएगी। दरअसल नक्सल प्रभावित इलाको में सुरक्षा के नज़र से पुलिस के द्वारा सर्चिग ओप्रशन चलाया जाता है।

लाल आतंक से बेखौफ अब आदिवासियों ने शुरू की ये पहल, जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

अब जानकारी के मुताबिक आईटीबीपी के जवानों की एक टुकड़ी उरदाबेंडा की ओर माओवादी गश्त के लिए निकली हुई थी। जो बारदा नदी में पानी अधिक होने के चलते जवानों के फंसने की बात कही जा रही हैं। हांलाकि जवानों की फंसने की पुष्टि अभी किसी भी सुरक्षाधिकारी ने नहीं की हैं।

river

सुकमा में बाढ़ की सम्भावना
मलंगेर नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है ऐसे स्थिति में स्वयं कलेक्टर जायजा लेने पहुंचे थे बताया जा रहा है। सुकमा जिले में पिछले कई घंटों से लगातार हो रही बारिश से नदी नालों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। इससे बाढ़ की स्थिति की संभावना बन रही है। सुकमा तहसील के गांव गादीरास में मलगेर नदी में लगातार बढ़ रहे जलस्तर का जायजा लेने कलेक्टर अधिकारियों के साथ पहुंचे और ग्रामीणों से बातचीत की उन्हें बढ़ रहे जलस्तर से सावधान रहने को कहा है ।

पिता ने कह दिया कुछ ऐसा, बेटे ने लगा ली फांसी, कारण जान रह जाएंगे हैरान

 

river

साथ ही लोगों से पुल के ऊपर बह रहे पानी में नदी पार नहीं करने की समझाइश दी है।कलेक्टर ने एसडीएम को निर्देश देते हुए कहा है ग्रामीणों के लिए तत्काल सभी आवश्यक व्यवस्थाएं की जाए तथा लगातार हो रही बारिश से नदी नालों में बाढ़ की स्थिति पर लगातार निगरानी रखने की बात कही है। आवश्यकता के अनुसार लोगों को त्वरित राहत पहुंचाने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए हैं।

 

river

कोंटा से मोटू नाव हुआ बंद
सुरक्षा के मद्देनजर रखते हुए कलेक्टर के आदेश पर कोंटा एसडीएम प्रदीप कुमार वैद ने शनिवार सुबह 11 बजे से ही नाव के आवागमन पर रोक लगा दी थी। वहीं बारिश के कहर के बीच ओडिशा जाने आने वाले यात्रियों के लिए खुशी की बात यह है कि आंध्र के कलेर ग्राम से मोटू के बीच पुल के बन जाने से ओडिशा के यात्री आसानी से अपने घरों तक पहुंच पा रहे है।