स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अपनी जान जोखिम में डालकर ग्रामीणों को दे रही नई जिंदगी, महिला के कार्य जानकर करेंगे सलाम

Bhupesh Tripathi

Publish: Oct 21, 2019 15:51 PM | Updated: Oct 21, 2019 15:51 PM

Kondagaon

डोंगी का सहारा लेकर दूरदराज तक जाती हैं ये महिलाएं, दुर्गम स्थल में इलाज के लिए रहती है सदैव तत्पर।

कोंडागांव . आज के दौर में जहां हर सरकारी कर्मचारी सुगम्य स्थानों पर पदस्थ रहकर आरामतलबी से नौकरी करना चाहता हैं वहीं छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले अंतर्गत फरसगांव विकासखंड के चिंगनार नमक जगह की एक महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता किसी मिसाल से कम नहीं हैं। जो विपरीत और चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भी जन-जन को स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने के साथ- साथ बोरगांव सेक्टर की बैठक में भी बराबर उपस्थिति दर्ज करा रही हैं।

नाबालिग से युवक ने की छेड़छाड़ और शिकायत करने पर देने लगा तेजाब फेंकने की धमकी, फिर ...

अंदरूनी अति संवेदनशील क्षेत्रों में दे रही है स्वास्थ्य सेवाएं
सेक्टर बड़ेडोंगर के अंतर्गत नदी पार उप स्वास्थ्य केंद्र चिंगनार, भोंगापाल, कसई फरसगांव और पलना में पदस्थ महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता पिछले कई साल से नदी पार ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित विभिन्न राष्ट्रीय स्वास्थ्य कायक्रमों को क्रियान्वित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं और प्रतिकूल हालातों में भी जरूरत मंदों तक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचा रही हैं। इस बारे में बड़ेडोंगर सेक्टर प्रभारी अजय जायसवाल बताते हैं कि सभी ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजकों को वैक्सीन एवं जरूरी दवाइयां मुहैया कराने के साथ हर हफ्ते होने वाली सेक्टर बैठकों में हमारे सभी कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शन देते हुए बेहतर कार्य करने लगातार प्रेरित किया जा रहा है।

आयुष चिकित्सा अधिकारी के खिलाफ महिला स्वास्थ्य कर्मियों को परेशान करने का लगा आरोप, जुर्म दर्ज

चुनौतियों का सामना कर स्वास्थ्य सेवाएं दे रही है महिला
महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता सीमा बंजारे, नीलबती सोढ़ी, महेन्द्री राणा, सुभद्रा मरकाम, पूनम चंदेल, मंजू विश्वास और लता नाग इन इलाके में पूरी निष्ठा के साथ ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाएं सुलभ कराने में जुटी हुई हैं। बच्चों को लगाए जाने वाले वैक्सीन से लेकर गर्भवती माताओं की जांच टीका एवं मौसमी बीमारी के लिए जरूरी दवाइयां और अन्य सामग्री लेकर दूरस्थ गांव तक पहुंचती हैं। कभी कभी ये ग्रामीणों द्वारा उपयोग लाई जा रही पुरानी लकड़ी से बनी डोंगी से भी नदी पार करती हैं।

चित्रकोट उपचुनाव: सीएम भूपेश के दावों को फेल करने भाजपा ने झोंकी ताकत, जानिए चुनाव से जुड़ी 10 बातें

कार्यकर्ता बेहतर कार्य कर रहे हैं
इस संबंध में खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ एल जुर्री का कहना है कि सेक्टर बड़ेडोंगर के अंदरूनी क्षेत्रों में पदस्थ हमारी सभी स्वास्थ्य कार्यकत्र्ता दुर्गम और नदी नालों की चुनौती के बाद भी पूरी निष्ठा और लगन के साथ बहुत अच्छा काम कर रहे हैं।

Click & Read More Chhattisgarh News.