स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश से बीजों को मिला जीवनदान

Himansu Dhawal

Publish: Jul 20, 2019 13:08 PM | Updated: Jul 20, 2019 13:08 PM

Kishangarh

बारिश से खिले काश्तकारों के चेहरे, बीजों में होने लगा अंकुरण, अच्छी फसल की उ?मीद

मदनगंज-किशनगढ़. नगर सहित आस-पास के क्षेत्रों में कभी धीरे तो कभी तेज बारिश से बीजों को जीवनदान मिल गया है। वहीं जिन बीजों में अंकुरण हो गया है उनके लिए यह अमृत साबित होगी। अब तेजी से फसलों की बढ़वार होगी।
किशनगढ़ पंचायत समिति क्षेत्र में बुवाई पूरी होने के बाद से बारिश नहीं होने के कारण बीजों के खराब होने की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। ऐसे में गुरुवार को हुई बारिश से बीजों को तो संजीवनी मिली है, वहीं अब उनकी बढ़वार तेजी होगी। इससे काश्तकारों के चेहरे भी खिल गए है। यदि आगामी दो-चार दिन बारिश नहीं आती तो बीज के खराब होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता था। जिन बीजों में अंकुरण हो गया था वह बारिश की कमी के कारण सूख जाते। बारिश के कारण सूखे दिखाई देने वाले खेत हरे-भरे नजर आने लगेंगे। हालांकि काश्तकारों को अभी भी अच्छी बारिश का इंतजार है, जिससे फसलों को फायदा हो साथ ही कुएं, तालाब और एनीकट आदि भर सके। इससे पशुओं के लिए पानी पर्याप्त मात्रा में हो। उल्लेखनीय है कि किशनगढ़ पंचायत समिति क्षेत्र में करीब ५० हजार हेक्टेयर में बुवाई का कार्य पूरा हो गया है। बीजों में अंकुरण होने लगा है।
फड़के से रोकथाम के प्रयास जरूरी
कृषि विभाग के सहायत कृषि अधिकारी वासुदेव बारहठ ने बताया कि काश्तकारों को खेतों की मेड़ पर उगी घास को उखाड़ देने चाहिए। इसके साथ ही मेलाथिऑन ५ प्रतिशत डस्क का भुरकाव करना चाहिए। इससे फड़के घास आदि पर अंड़े नहीं दे सकेंगे।
उमस के कारण हाल-बेहाल
नगर में शुक्रवार को सुबह से शाम तक बादल छाए रहे। बारिश नहीं होने के कारण उमस के कारण नगरवासियों का हाल-बेहाल हो गया। उमस के कारण घरों में बैठना तक मुश्किल हो गया। लोग गर्मी से बचने के प्रयास करते देखे गए। हालांकि बाद छाए रहने से लोगों धूप से निजात मिली।