स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मेरी आन तिरंगा है...

Kali Charan kumar

Publish: Aug 14, 2019 19:42 PM | Updated: Aug 14, 2019 19:42 PM

Kishangarh

देशभक्ति के नारों से गूंजे मुय मार्ग
विभिन्न संगठनों ने निकाली तिरंगा रैली

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मदनगंज-किशनगढ़. नगर के मुय मार्ग बुधवार को देशभक्ति नारों से गूंज उठा। विभिन्न संगठनों की ओर से तिरंगा रैली निकाली गई। इस रैली में संगठनों के सदस्य उत्साह से शामिल हुए। नगरवासियों ने भी जगह-जगह रैली का स्वागत किया।
मां भारती रक्षा मंच की ओर से अखंड भारत दिवस मनाते हुए डाक बंगले से तिरंगा रैली निकाली गई। रैली को मंजू मेहता, मंच सरंक्षक लक्ष्मीनारायण सोनगरा, विजय पारीक, अध्यक्ष राजेश नवहाल ने तिरंगा झंडा दिखाकर रैली को प्रारंभ किया। इसमे विभिन्न स्कूलों महादेव विद्या मंदिर, सर्वेश्वर सैकंडरी स्कूल, नवोदय, प्रभाती देवी स्कूल, प्रेरणा प्रोगे्रसिव, मेवाड़ मिशन, राजस्थान पब्लिक, आदर्श विद्या निकेतन आदि के विद्यार्थियों औैर रैली में शामिल लोगों ने देशभक्ति नारे और गीत गाते हुए देशभक्ति पूर्ण माहौल बना दिया। रैली का मुय आकर्षण 101 फीट का तिरंगा रहा। रैली में सबसे आगे उमंग कंवर चौहान ध्वज वाहन के रूप में चली। मुय चौराहे पर मौजूद सभी लोगों ने राष्ट्रगान का गायन किया। तिरंगा रैली का विभिन्न संगठनों की ओर से स्वागत किया गया। नगर के मुय मार्गों से होते हुए रैली रविंद्र रंगमंच पहुंचकर शहीदी सभा में परिवर्तित हो गई। यहां वक्ताओं ने अपने विचार प्रकट किए। मंच संचालन पवन जोशी ने किया। सचिव राकेश स्वर्णकार ने बताया कि इसमे विनोद झंवर, किशन बंग, अशोक शर्मा, गिरीराज दायमा, डी.सी. अग्रवाल, दौलत सोनी, चंद्रप्रकाश शर्मा, अश्विनी परिहार, कन्हैयालाल वर्मा, हर्षवर्धन राव आदि शामिल हुए।
इसी तरह संत रविदास समरसता मंच की ओर से बाबा साहब भीमराव अंबेडकर और संत रविदास के बैनर तले लक्ष्मीनारायण मंदिर से तिरंगा रैली निकाली गई। रैली का मुय आकर्षण 51 फीट का तिरंगा और शहीदों एवं स्वतंत्रता सेनानियों की झांकी रही। रैली में शामिल लोगों और सदस्यों ने देशभक्ति नारे लगाए और गीत गाए। इसमे संत रविदास मंच के अध्यक्ष पारसमल सुखाडिया, महासचिव कैलाश चंद किराडिय़ा, कोषाध्यक्ष रामनिवास परसोया, भागचंद नगलिया, संरक्षक अनिल कच्छावा, मातादीन पंवार, शिवराम बड़ारिया, उगमाराम, पूरणमल उदय, मदन साठीवाल आदि शामिल हुए।