स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हर-हर भोले नम: शिवाय

Kali Charan kumar

Publish: Aug 12, 2019 21:12 PM | Updated: Aug 12, 2019 21:12 PM

Kishangarh

सावन के चौथे सोमवार को मंदिरों में उमड़े शिवभक्त
विधि विधान से की पूजा पाठ, हुए कई धार्मिक आयोजन

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मदनगंज-किशनगढ़. पवित्र सावन माह के चौथे सोमवार को शिव मंदिरों में भक्तों ने भक्तिभाव और विधिविधान से भगवान भोलेनाथ का अभिषेक और पूजा अर्चना की। मंदिरों में सुबह से भक्तों का आना शुरू हो गया और भक्तों ने पंचामृत अभिषेक कर जलाभिषेक किया। भक्तों ने बिल्व पत्र आदि अर्पित किए। पूजा पाठ के साथ ही भक्तों ने आरती भी की। नगर के अमरनाथ महादेव मंदिर, पुराना शहर, नया शहर, मदनगंज, जयपुर रोड, अजमेर रोड, परासिया, कृष्णापुरी, गांधीनगर आदि क्षेत्रों में स्थित शिव मंदिरों में दोपहर तक भक्त पूजा अर्चना के लिए आते रहे।
सहस्त्राभिषेक के आयोजन
सोमवार को कई शिव मंदिरों में सहस्त्राभिषेक के आयोजन हुए। भक्तों की ओर से सामूहिक रूप से भगवान शिव का जलाभिषेक किया गया। मंत्रोच्चार के साथ जलाभिषेक के आयोजनों में भक्तों ने भक्तिभाव से भाग लिया। इस अवसर पर भगवान शिव परिवार का मनोहारी शृंगार किया गया। आरती के बाद भक्तों में प्रसाद वितरण किया गया। अग्रसेन भवन के पास सुवालाल की बगीची स्थित सिद्धेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव की पूजा अर्चना और झांकी का आयोजन मीठड़ी परिवार की ओर से किया गया। सभी भक्तों ने दर्शन किए और प्रसाद वितरण किया गया।
कई जगह पहुंचे कावडि़ए
सोमवार होने के कारण पुष्कर से जल लेकर निकले कावडि़ए नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के कई शिव मंदिरों में पहुंचे। यहां कावडिय़ों ने पुष्कर से लाए जल से भगवान शिव का जलाभिषेक किया। शिव मंदिरों में विधिविधान से पूजा अर्चना, आरती के बाद प्रसाद वितरण किया गया। नगर के कृष्णापुरी स्थित सिद्धेश्वर महादेव मंदिर, लिंक रोड, जयपुर रोड सहित कई मंदिरों में कावडि़ए कावड़ लेकर पहुंचे। क्षेत्रवासियों की ओर से कावडिय़ों का स्वागत भी किया गया।
भक्तों ने रखा व्रत
सोमवार को ही सोम प्रदोष व्रत होने के कारण शिव भक्तों ने व्रत रखा। बहुत से भक्तों ने वन सोमवार को व्रत सार्वजनिक उद्यानों और अन्य स्थानों पर जाकर खोला। सोमवार को ही प्रदोष व्रत आने से शिव भक्तों में विशेष मान्यता रहती है। इसलिए सावन के सोमवार को प्रदोष व्रत होने से बहुत से शिव भक्तों ने व्रत रखकर विशेष पूजा पाठ, जलाभिषेक किए।