स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रोकस में वित्तीय अनियमितता करने वाले सुपरवाइजर पर दर्ज कराएं

Riyaz Sagar

Publish: Nov 12, 2019 17:40 PM | Updated: Nov 12, 2019 17:40 PM

Khandwa

खंडवा.मूंदी अस्पताल की रोगी कल्याण समिति का हिसाब किताब रखने वाले स्वास्थ्य सुपरवाइजर द्वारा की गई वित्तीय अनियमितताओं को लेकर उस पर तत्काल एफआइआर दर्ज कराई जाए। साथ ही मूंदी स्वास्थ्य केंद्र में जांच के दौरान पाई गई अनियमितताओं को लेकर विकासखंड परियोजक, बीईई, बीएमओ के विरुद्ध भी सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए।

ये निर्देश सोमवार को कलेक्टर तन्वी सुंद्रियाल ने साप्ताहिक समीक्षा की बैठक में सीएमएचओ डॉ. डीएस चौहान को दिए। साथ ही उन्होंने सीएमएचओ को आयुष्मान भारत योजना की पात्रता सूची में जिन हितग्राहियों के नाम है यदि उनके आयुष्मान कार्ड नही बने है तो उनके कार्ड तैयार किए जाने को भी कहा। कलेक्टोरेट सभाकक्ष में हुई साप्ताहिक समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, राजस्व, उद्यानिकी और महिला बाल विकास के अधिकारियों को भी निर्देशित किया कि वे ग्रामीण क्षेत्र में पदस्थ अपने फील्ड स्टॉफ की उपस्थिति लोक सेवक एप के माध्यम से बारीकी से जांचे। जिस कर्मचारी का अपने मुख्यालय पर कार्यालयीन समय में लंबे समय तक अनुपस्थित रहना पाए जाने या देरी से उपस्थित रहने वाले कर्मचारियों को चिह्नित कर उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करें। जवाब प्राप्त करने के बाद दोषी पाए गए कर्मचारियों के खिलाफ सख्त दंडात्मक कार्रवाई भी की जाए। बैठक में कलेक्टर ने शहर में एक ही परिसर में संचालित स्कूलों में पदस्थ शिक्षकों की जानकारी के आधार पर शिक्षकों को युक्तिकरण करने की कार्रवाई शीघ्र करने को भी कहा। उन्होंने कहा जीर्ण-शीर्ण स्कूल भवनों में कक्षाएं न लगाई जाए। उन्हे पास के स्कूलों में स्थानांतरित किया जाए। उन्होंने शहर में नगर निगम के उद्यानों में अनियमितता की जांच रिपोर्ट शीघ्र प्रस्तुत करने के लिए जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी से कहा। बैठक में जिला पंचायत सीइओ रोशन कुमार सिंह, अपर कलेक्टर राजेश जैन, नगर निगम आयुक्त हिमांशु सिंह, एसडीएम, तहसीलदार, मुख्य नगर पालिका अधिकारी व जनपद पंचायतों के सीइओ सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी मौजूद थे। ये भी दिए निर्देश उचित मूल्य दुकानों के निरीक्षण का जिले में विशेष अभियान चलाया जाए। सहकारी समितियों में उर्वरक विक्रय व्यवस्था जांच अधिकारियों के माध्यम से हो। प्राथमिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कायाकल्प अभियान के मानदंडों अनुरूप सुविधा उपलब्ध कराई जाए। खालवा क्षेत्र में आंगनवाड़ी के पोषण आहार फें कने संबंधी शिकायत पर शीघ्र जांच पूर्ण हो।

[MORE_ADVERTISE1]