स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुपर-1000 के ये हाल, जिन स्कूलों को चुना वहां का रिजल्ट 12 और 14 प्रतिशत

Amit Jaiswal

Publish: Dec 04, 2019 12:13 PM | Updated: Dec 04, 2019 12:13 PM

Khandwa

निजी स्कूलों से बराबरी करने की सोच इस तरह तोड़ सकती है दम।

खंडवा. सरकारी स्कूलों का रिजल्ट बेहतर करने के साथ ही वहां की अधोसंरचनात्मक स्थिति को सुदृढ़ करने की सोच के साथ शुरू की किए गए सुपर-1000 मिशन को जिले में बड़ा झटका लगा है। यहां ऐसे स्कूलों का चयन किया गया है, जिनका नाम तो बड़ा है लेकिन हालात बहुत कमजोर। त्रेमासिक परीक्षा में ही ये स्कूल 50 फीसदी से कम रिजल्ट पर रूक गए। इतना ही नहीं, किसी स्कूल में महज 12 तो कहीं 14 फीसदी रिजल्ट आया है। मिशन के तहत चयनित स्कूलों में 16 ऐसे हैं, जो रिजल्ट में कमजोर साबित हुए हैं। कलई खुलने के बाद अब इन स्कूलों के शिक्षक-शिक्षिकाओं को रिजल्ट बेहतर करने के तरीके सिखाए जा रहे हैं। इन्हें बताया जा रहा है कि किस तरह इस मिशन की अवधारणा को साकार किया जाना है। सोमवार को देवास जिले से आए विशेषज्ञ डॉ. भरत व्यास ने जिला मुख्यालय के उत्कृष्ट स्कूल सभागार में दो शिफ्ट में इन स्कूलों के शिक्षकों को ट्रेनिंग दी।

ये स्कूल जिनका रिजल्ट रहा कमजोर
स्कूल का नाम दर्ज उत्तीर्ण रिजल्ट
उत्कृष्ट पुनासा 217 027 12.4
नेहरू खंडवा 075 011 14.7
उमावि बांगरदा 153 030 19.6
उमावि जसवाड़ी 133 027 20.3
उमावि कन्या पुनासा 205 042 20.5
उमावि बालक मूंदी 102 024 23.5
शा. उमावि जावर 139 037 26.6
एमएलबी खंडवा 214 057 26.6
उमावि कन्या पंधाना 150 040 26.7
उमावि कन्या सूरजकुंड 115 036 31.3
उमावि ओंकारेश्वर 138 047 34.1
उमावि कन्या मूंदी 151 057 37.7
उमावि गुड़ीखेड़ा 184 074 40.2
उमावि उत्कृष्ट हरसूद 047 019 40.4
उमावि उत्कृष्ट पंधाना 117 048 41.0
शा. उमावि रिछफल 109 047 43.1
50-50 में दिया गया प्रशिक्षण
मिशन-1000 के अंतर्गत चयनित स्कूलों में कक्षा 10वीं का त्रेमासिक परीक्षा परिणाम 50 फीसदी से कम आने की स्थित में इन स्कूलों के सभी शिक्षकों का उन्मुखीकरण किया गया। हालांकि तय ये भी किया गया कि किसी भी स्थिति में स्कूल बंद नहीं करना है, इसलिए दो पाली में ट्रेनिंग दी गई। अवकाश व अनुपस्थिति को मान्य नहीं करने के निर्देश जारी किए गए थे।

32 का था चयन, चार मॉडल हटाए
प्रदेश सरकार द्वारा हायर सेकंडरी 12वीं कक्षा में टॉप आने वाले विद्यार्थियों के लिए लागू की गई सुपर-100 योजना की तर्ज तथा उत्कृष्ट और मॉडल स्कूलों की अवधारणा पर जिले के चयनित स्कूलों को संवारने के लिए हाइस्कूल-हायर सेकंडरी स्कूलों के लिए मिशन-1000 लागू किया गया है। इसके अंतर्गत जिले के 32 स्कूलों का चयन किया गया था। हालांकि इसमें से चार मॉडल स्कूलों को बाद में हटा दिया गया। जिन स्कूलों का चयन किया है, उनमें एक शाला एक परिसर के अंतर्गत एकीकृत किए गए और 500 से ज्यादा छात्र संख्या वाले स्कूलों को शामिल करके उन्हें सर्वसुविधायुक्त आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित करना है। शामिल किए स्कूलों की समस्याओं जैसे अधोसंरचना, गैप, पहुंच मार्ग, पेयजल अतिक्रमण जैसी समस्याओं से मुक्त करना है। इसके लिए विभाग की तरफ से अलग से फंड भी दिए जाने बात कही जा रही है।

[MORE_ADVERTISE1]