स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस कंकाल की है अजब दास्तां, आप भी जानिए ये कहानी

deepak deewan

Publish: Sep 13, 2019 16:05 PM | Updated: Sep 13, 2019 16:05 PM

Khandwa

कंकाल की है अजब दास्तां

खंडवा.
गुरुवार को खंडवा मेडिकल कॉलेज मेें एक देहदान की गई। यहां कुछ लोगों ने कंकाल दान कर दिया। यह कंकाल एक महिला का है।

मेडिकल कॉलेज के विद्यार्थियों को दिया महिला का कंकाल

अब यह कंकाल मेडिकल कालेज के विद्यार्थियों की रिसर्च के काम आएगा। कालेज में शव और कंकाल की अभी तक कमी बनी हुई है। खंडवा मेडिकल कालेज में करीब 40 शव सुरक्षित रखे जा सकते हैं। इतनी ज्यादा देह रखने की सुविधा होने के बाद भी यहां अभी तक महज आधा दर्जन शव ही हैं जबकि यहां कम से कम 10 शवों की जरूरत है। ऐसे में यह कंकाल कालेज स्टाफ और स्टूडेंट्स के लिए काफी उपयोगी सिद्ध होगा।

महिला के पति ने किया देहदान
जानकारी के अनुसार कंकाल जिस महिला का है उसके पति ने देहदान का निर्णय लिया था। जिला देवास के खारिया तहसील के सतवास के निवासी त्रिलोक रंगलाल द्वारा अपनी पत्नी की देहदान की गई। उन्होंने समझदारी से फैसला करते हुए खंडवा मेडिकल कॉलेज को कंकाल सौंप दिया गया। इस दौरान किल्लौद थाने से आरक्षक राहुल मीणा सहित मेडिकल कॉलेज के अधिकारी, कर्मचारी मौजूद रहे।

रोचक तरीके से मिला कंकाल
महिला का कंकाल मिलने की कहानी बेहद रोचक है। बताया जा रहा है कि यह कंकाल गत दिनों नदी में बहकर आया। जानकारी के अनुसार खामला के जंगल में बुधवार को यह माचक नदी में मिला। सोनतलई निवासी सुमनबाई नदी में बह गई थी। उसे बहुत ढूंढा गया लेकिन कुछ अता-पता नहीं चला। बाद में उसका यह कंकाल मिला था। इसे पुलिस द्वारा शुक्रवार को खंडवा में पीएम के लिए ले जाया गया। बाद में कालेज को दान कर दिया गया।