स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सिंगाजी ताप परियोजना की चारों चिमनियों से निकला धुआं

Ajay Kumar Paliwal

Publish: Dec 14, 2019 02:24 AM | Updated: Dec 14, 2019 02:24 AM

Khandwa

चौथी यूनिट का 125 दिन बाद लाइटअप, आज से करेगी बिजली उत्पादन

बीड़. प्रदेश की सबसे बड़ी विद्युत ताप परियोजना सिंगाजी ताप की चारों चिमनियों से शुक्रवार को धुआं निकलने लगा है। बिजली की मांग को देखते हुए शुक्रवार शाम 4.40 बजे फेज-2 की यूनिट चार का 125 दिन बाद लाइटअप किया गया। जिसके बाद शनिवार से चौथी यूनिट भी बिजली उत्पादन शुरू कर देगी। वर्तमान में शुक्रवार रात 9 बजे तक सिंगाजी ताप परियोजना में 1100 यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा था।
सिंगाजी ताप परियोजना की चौथी यूनिट को तकनीकी खराबी के चलते अगस्त माह के पहले सप्ताह में बंद कर दिया गया था। तकनीकी खराबी को दूर करने के बाद बिजली की मांग नहीं होने से चौथी यूनिट बंद पड़ी थी। अब प्रदेश में बिजली की बढ़ती मांग के बाद इसका लाइटअप किया गया है। वर्तमान में परियोजना मे फेस वन की यूनिट एक से 362 मेगावॉट, यूनिट दो से 350 मेगावॉट, फेज दो कि यूनिट तीन से 350 मेगावॉट बिजली का उत्पादन हो रहा है। चौथी यूनिट आरंभ होने के बाद चारों यूनिट से 2520 मेगावॉट बिजली का उत्पादन होने लगेगा। उल्लेखनीय है कि मप्र पॉवर जनरेटिंग कंपनी की चारों विद्युत ताप परियोजनाओं की 16 इकाईयों में से 11 इकाईयों से 3000 मेगावॉट बिजली का उत्पादन हो रहा है। जिसमें सबसे ज्यादा उत्पादन सिंगाजी ताप से हो रहा है।
एक दिन में घटी 3 हजार मेगावॉट बिजली की मांग
गुरुवार को सुबह प्रदेश मे बिजली उत्पादन की मांग 13500 मेगावॉट थी। जो शुक्रवार सुबह घटकर 10300 मेगावॉट तक पहुंची। रात 9 बजे तक बिजली की मांग कम होकर 7500 मेगावॉट पर पहुंच गई थी। गुरुवार को कई जगहों पर अचानक बारिश ओर ओले गिरने के कारण बिजली की मांग कम हुई, लेकिन आने वाले दिनों में फिर बढ़ सकती है।
परियोजना में तीनों इकाईयों से बिजली उत्पादन किया जा रहा है। चौथी यूनिट का भी लाइटअप किया गया। शनिवार से बिजली उत्पादन चालू हो जाएगा।
आरपी पांडे, अतिरिक्त मुख्य अभियंता, सिंगाजी ताप परियोजना

[MORE_ADVERTISE1]