स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रेलवे स्टेशन से जनता खाना गायब, अफसरों के दौरे के समय ही आता है नजर

dharmendra diwan

Publish: Jan 20, 2020 13:23 PM | Updated: Jan 20, 2020 13:23 PM

Khandwa

जनता खाना के अभाव में महंगी खानापान सामग्री खरीदने को मजबूर यात्री

खंडवा. मध्य रेलवे जोन के खंडवा रेलवे स्टेशन पर जनता खाना के पैकेट रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के निरीक्षण के दौरान ही नजर आते है। इसके बाद यहां के स्टॉल से जनता खाना गायब हो जाता है। इससे यात्रियों को 70 से 100 रुपए में खाने की थाली खरीदनी पड़ती है। उल्लेखनीय है कि रेलवे ने जनता खाना योजना की शुरुआत की थी। इसमें ट्रेनों में सफर के दौरान यात्रियों को ज्यादा रुपए खर्च नहीं करने पड़ते थे। रेलवे स्टेशन के खाद्य स्टॉलों से 15 रुपए में यात्री जनता खाना खरीद सकते थे। हर खाद्य स्टॉल पर इसे रखना अनिवार्य किया था वह अब स्टॉल से गायब हो गया है। रविवार को पत्रिका टीम ने जनता खाना की स्थिति देखी। इस दौरान दोपहर दो बजे किसी काउंटर पर जनता खाना नजर नहीं आया। स्टॉल के वेंडर्स ने सफाई दी कि सुबह जनता खाना आता है, दोपहर तक खत्म हो जाता।

[MORE_ADVERTISE1]

यह है जनता खाना
रेलवे ने जनता खाना के लिए एक मेन्यू भी निर्धारित किया है जिसके आधार पर ही जनता खाना के पैकेट तैयार होना चाहिए। एक पैकेट में निर्धारित नियम के हिसाब से 7 पुड़ी जिसका वजन करीब 175 ग्राम, आलू की सूखी सब्जी 150 ग्राम, अचार 15 ग्राम और 1 मिर्च होना चाहिए। इस पैकेट की कीमत 15 रुपए निर्धारित की है।

[MORE_ADVERTISE2]

यात्रियों के लिए जनता खाना अनिवार्य
रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 2-3 पर जितने रिफ्रेशमेंट रूम और खानपान स्टॉल पर जनता खाना रखना अनिवार्य है। इस पैकेट में स्पष्ट रूप से जनता खाना लिखा होने के अलावा बड़े अक्षरों में 15 रुपए मूल्य लिखा होना भी जरूरी है। लंबी दूरी की ट्रेनों में सफर करने वाले गरीब और मजदूर वर्ग से जुड़े यात्रियों को भूखा न रहना पड़े और कम खर्च में काम चल जाए, इसलिए काउंटर पर जनता खाना अनिवार्य किया। जनता खाना को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही पर रेलवे संबंधित अधिकारी वेंडर्स पर जुर्माने की कार्रवाई करता है। खंडवा में इस दिशा में जांच नहीं हो रही है, जिसका फायदा वेंडर्स उठा रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE3]