स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

समस्या से त्रस्त लोग कर रहे आत्महत्या की अपील

Manish Arora

Publish: Jan 29, 2020 12:30 PM | Updated: Jan 29, 2020 12:30 PM

Khandwa

-बर्खास्त सहायिका ने कहा नौकरी नहीं तो आत्महत्या पर हो जाउंगी मजबूर
-तीन साल से बैंक जमाकर बैठी कब्जा, वृद्ध ने कहा आत्महत्या के अलावा कोई रास्ता नहीं
-जनसुनवाई में कलेक्टर के सामने उठे मामले, दिए कार्रवाई के निर्देश

खंडवा. अपनी समस्याओं से परेशान लोग अब जनसुनवाई में पहुंचकर आत्महत्या की गुहार भी लगाने लगे है। मंगलवार को एक बार फिर जनसुनवाई में एक वृद्ध और एक आंगनवाड़ी सहायिका ने पहुंचकर आवेदन देकर आत्महत्या करने की बात कही। हाल ही में बर्खास्त आंगनवाड़ी सहायिका ने अपनी बेटियों की परवरिश का हवाला देते हुए पद मुक्त नहीं करने की मांग की। वहीं, ग्रामीण बैंक द्वारा किराया नहीं दिए जाने से त्रस्त वृद्ध ने भी आत्महत्या की बात कही। कलेक्टर तन्वी सुंद्रियाल ने सुनवाई करते हुए संबंधितों की समस्या निराकरण को कहा।
नर्मदानगर आंगनवाड़ी क्रमांक 2 की सहायिका सुपराबी ने बताया कि वे 23 साल से सहायिका के पद पर कार्यरत है। पिछले एक साल से नई कार्यकर्ता द्वारा उन्हें परेशान किया जा रहा है। लगातार झूठी शिकायतों के चलते पिछले दिनों कलेक्टर ने उन्हे बर्खास्त करने के निर्देश दिए है। सुपराबी ने बताया कि वे विधवा और दिव्यांग हैं और उनकी दो बालिग बेटियां है, जिनकी पूरी जिम्मेदारी उन पर है। नौकरी नहीं होने से परिवार पर घोर संकट आ जाएगा। ऐसे में उनके पास बेटियों सहित आत्महत्या करने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है। उन्होंने शिकायत के मामले में सही जांच कर कार्रवाई की मांग की।
किराया तो दूर बिजली बिल भी नहीं दे रही बैंक
छनेरा से आए 72 वर्षीय वृद्ध अविनाश पाटीदार ने बताया कि वर्ष 2015 में उन्होंने अपना मकान जिला सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक मर्यादित को किराए पर दिया था। पिछले 38 माह से बैंक द्वारा किराया भी नहीं दिया जा रहा और बिजली बिल भी नहीं भरा जा रहा। किराया मांगने पर बैंक प्रबंधक हिला हवाला करते है। वे असहाय होकर उनके पास आजीविका का कोई साधन नहीं है। उन्होंने मांग की है कि उन्हें पूरा किराया दिलाकर बैंक से भवन खाली कराया जाए। अन्यथा वे आत्महत्या को विवश हो जाएंगे।
4 करोड़ जमा कराए बोर्ड ने फिर भी नहीं बना रोड
हाउसिंग बोर्ड की ग्रीन पार्क सोसायटी कॉलोनी के लोगों ने जनसुनवाई में पहुंचकर रोड बनाने की गुहार लगाई। रहवासियों ने बताया कि कॉलोनी नगर निगम के हेंड ओवर कर दी गई है। हाउसिंग बोर्ड दो बार कॉलोनी विकास के लिए निगम में चार करोड़ रुपए भी जमा करा चुका है, लेकिन उनकी कॉलोनी में कोई काम नहीं हो पाया है। वहीं, जनसुनवाई में इंदल हिर्वे निवासी छिरवेल ने बताया कि उसकी कृषि भूमि तथा जीवित कुआ छिरवेल तालाब की डूब में आ गए है। उसका मुआवजा जल संसाधन विभाग द्वारा अभी तक नही दिया गया। कलेक्टर ने सभी प्रकरणों में संबंधित अधिकारियों से कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

[MORE_ADVERTISE1]