स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'गांधी की जगह नोटों पर लक्ष्मी की फोटो हो, इंडोनेशिया ने गणेश जी की फोटो छाप अर्थव्यवस्था को बचाया', स्वामी ने दिए सुझाव

Muneshwar Kumar

Publish: Jan 15, 2020 20:32 PM | Updated: Jan 15, 2020 20:32 PM

Khandwa


स्वामी ने कहा कि इस पर नरेंद्र मोदी जवाब दे सकते हैं

खंडवा/ मध्यप्रदेश के खंडवा में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने अर्थव्यवस्था में मजबूती के लिए सुझाव दिए हैं। भारतीय करेंसी पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीर को हटाकर लक्ष्मी जी की तस्वीर लगाए। क्योंकि लक्ष्मी जी धन की देवी है। इंडोनेशिया ने अपने नोटों पर गणेश जी की तस्वीर छापी तो उसकी अर्थव्यव्स्था मजबूत हो गई।

[MORE_ADVERTISE1]

स्वामी विवेकानंद पर आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के सुब्रमण्यम स्वामी खंडवा पहुंचे थे। अर्थव्यवस्था को लेकर पूछे गए सवाल पर स्वामी ने कहा कि नोटों पर लक्ष्मी का चित्र होना चाहिए। लेकिन इसे लेकर नरेंद्र मोदी ही जवाब दे सकते हैं। देश की अर्थव्यवस्था को लक्ष्मी जी की फोटो लगाकर मजबूती दी जा सकती है। इसमें किसी को भी बुरा नहीं लगना चाहिए।

[MORE_ADVERTISE2]
[MORE_ADVERTISE3]

स्वामी विवेकानंद व्याख्यानमाला में बोलते हुए स्वामी ने कहा कि इंडोनेशिया ने अपने दस हजार के नोट पर गणेश जी की तस्वीर छापकर अपनी गिरती हुई अर्थव्यवस्था को बचाया। ऐसे में भारत सरकार को भी अपनी करेंसी पर लक्ष्मी जी की तस्वीर छापनी चाहिए।

चलो टेस्ट कराते हैं
सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि ओवैसी ने मुझे चैलेंज किया तो मैंने उसे कहा कि चलो टेस्ट कराते हैं, हमारा डीएनए एक ही निकलेगा। मैंने ओवैसी से कहा कि चालीस हजार मंदिर तोड़े गए हैं, हम सिर्फ तीन चाहते हैं। राम मंदिर, काशी विश्वनाथ और मथुरा। क्योंकि कृष्ण ने दुर्योधन को समझाया था कि क्यों लड़ाई कर रहे हैं। लेकिन वह मूर्ख समझा नहीं। हस्तिनापुर भी गया और जान भी गई।

सोनिया को भेजना है तिहाड़
बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि सोनिया गांधी को तिहाड़ जेल भेजना है। यह बात उन्होंने सोनिया गांधी को बार-बार इटली भेज देने की बात पर कही। वहीं उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक पर हमारे देश में भड़काने वाले बहुत लोग हैं। वे लोग सीएए पर खूब अफवाह फैला रहे हैं। लेकिन हकीकत कुछ और है।