स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ऐसे शातिर लुटेरों से सावधान, व्यापारियों की रैकी कर आंखों में मिर्ची झोंक करते थे लाखों की लूट

Jitendra Tiwari

Publish: Aug 14, 2019 07:01 AM | Updated: Aug 14, 2019 01:03 AM

Khandwa

रैकी कर चिह्नित करते थे वारदात का स्पॉट, मौका मिलते ही लूटकर हो जाते थे फरार, मांधाता और धनगांव थाना क्षेत्र में व्यापारियों से लूट करने वाले आरोपी गिरफ्तार

 

खंडवा. व्यापारियों से मांधाता और धनगांव थाना क्षेत्र में लाखों रुपए की लूट की वारदात का मंगलवार को पुलिस ने खुलासा किया। चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी वारदात से पहले रैकी कर वारदात के लिए स्पॉट चिह्नित करते। मौका मिलते ही व्यापारी की आंख में मिर्च झोंक रुपयों से भरा बैग लेकर फरार हो जाते। एसपी डॉ. शिवदयाल सिंह ने बताया कि लूट के मामलों में आरोपी अनुज विश्नोई निवासी ग्राम अटूटखास, रोहित उर्फ मिच्छू कोली निवासी संजय नगर, प्रदीप उर्फ भैय्यू भील निवासी संजय नगर, चेतननाथ निवासी सूरजकुंड को गिरफ्तार किया है। आरोपी शिवा बंजारा निवासी भगवानपुरा फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है। आरोपियों से नकद 70 हजार 100 रुपए, बाइक, मोबाइल और एक फालिया बरामद किया है। पूछताछ में आरोपियों ने लूट की आधा दर्जन वारदात कबूली है। इनमें खंडवा की तीन वारदात शामिल हैं। आरोपियों को कोर्ट में पेश करके रिमांड पर लिया है।

अर्जुन देता था व्यापारी की सूचना
आरोपी अर्जुन की सनावद में किराना दुकान है। वह दुकान पर ही रहकर व्यापारियों की रैकी करता था। साथ ही गैंग के साथियों को व्यापारी के संबंध में जानकारी देता था। रुपए लेकर व्यापारी के निकलने से लेकर उसके पास कितनी नकद राशि हो सकती है। इसकी सूचना आरोपी अर्जुन देता था। जानकारी मिलते ही शेष चार आरोपी दो बाइकों से व्यापारी का पीछा करते थे और सुनसान इलाके में व्यापारी की आंखों में मिर्ची झोंक वारदात का अंजाम देकर फरार हो जाते थे। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर अर्जुन के दबोचा। पूछताछ में उसने गैंग के साथियों के नाम बताए। इसके बाद अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी की गई।

ट्रेस होने के डर से नहीं करते थे मोबाइल का इस्तेमाल
गिरफ्तारी आरोपी पूर्व में भी वारदात को अंजाम दे चुके हैं। आरोपी इतने शातिर हैं कि पुलिस से बचने और ट्रेस होने के डर से मोबाइल का उपयोग नहीं करते थे। वारदात के दौरान कोई भी मोबाइल साथ नहीं रखता। एक-दूसरे से भी मोबाइल पर बात नहीं करते। सभी आरोपी सनावद में मिलते और वहीं बैठकर वारदात की साजिश रचते। वारदात के दौरान बाइक की नंबर प्लेट निकाल देते या फिर गलत नंबर प्लेट का उपयोग करते थे।

डॉक्टर व पेट्रोल पंप संचालक थे निशाने पर
पूछताछ में आरोपियों ने बताया सनावद और खंडवा के कुछ पेट्रोल पंप संचालक और डॉक्टर निशाने पर थे। उन्होंने इनकी रैकी कर ली थी। जल्द ही लूट की वारदात को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे। क्योंकि कुछ पेट्रोल पंप संचालक व डॉक्टर शाम व रात के समय मोटी नकद राशि लेकर आवागमन करते है। इनकी आरोपियों को भनक लग गई थी। जिसके बाद से ही आरोपी उन्हें वारदात का शिकार बनाने का मौका तलाश रहे थे।

 

 

इन वारदातों का हुआ खुलासा

केस-1: धनगांव थाना क्षेत्र में 15 जून की रात करीब 8.30 बजे सनावद के किराना व्यवसायी विनिश जैन (42) निवासी कोर्ट के पास सनावद अपने ड्रायवर मनीष व हेल्पर धर्मेन्द्र के साथ किराना सामान की बकाया राशि व्यापारियों से वसूलकर लौट रहे थे। तभी बखरगांव के पास नकाबपोश बदमाशों ने वाहन चालक की आंखों में मिर्ची झोंक व्यापारी पर फालिया से हमला किया और 4.50 लाख रुपए से भरा बैग लेकर फरार हो गए थे।
केस-2: मांधाता थाना क्षेत्र में 20 जुलाई की शाम करीब 7.40 बजे खाद बीज व्यापारी प्रेमलाल गुर्जर निवासी भोगांवा अपनी दुकान बंद कर सनावद से घर भोगांवा आ रहा था। तभी ग्राम इनपुन के पास दो बाइकों पर सवार चार बदमाशों ने आंखों में मिर्ची डालकर एक लाख पांच हजार रुपए की लूट की थी।

केस-3: मूंदी थाना की बीड़ पुलिस चौकी क्षेत्र में 28 जुलाई की रात ग्राम के रेलवे गेट के पास स्थित राजकुमारी यादव (75) के घर में बदमाश घुसे। यहां से मंगलसूत्र लूटकर फरार हुए थे। इसके अलावा सनावद थाना क्षेत्र की भी कुछ वारदातें करना आरोपियों ने कबूल की है।
कार्रवाई टीम को दस हजार का इनाम

इधर, एसपी डॉ. सिंह ने कार्रवाई टीम को हर वारदात पर दस-दस हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की। कार्रवाई टीम में साइबर सेल एसआई यशवंत बड़ोले, सीताराम सोलंकी, प्रआर. राधेश्याम, आरक्षण अयाजुर्रेहमान, गुणाकेश, महेश, नितीन थाना धनगांव और आरक्षक जितेन्द्र, सुनील, महेन्द्र यादव, राजू, महेन्द्र वर्मा आदि शामिल रहे।