स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आज मटियारी महक बिखेंरेगी लोकगायिका मालिनी अवस्थी

Rajiv Jain

Publish: Sep 20, 2019 03:01 AM | Updated: Sep 20, 2019 03:01 AM

Khandwa

20 सितंबर को शाम साढ़े सात बजे गौरीकुंज सभागार में प्रस्तुति देंगी

खंडवा. लोकगीतों की मटियारी खुशबू से खनकते कंठ और लय-ताल पर गमकते संगीत की सौगात लिए प्रख्यात गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी शहर के गौरीकुंज सभागार में दस्तक देंगी। डॉ. सीवी. रमन विश्वविद्यालय, वनमाली सृजन पीठ तथा टैगोर विश्वकला एवं संस्कृति केन्द्र की साझा पहल पर 22 सितंबर तक आयोजित यह जलसा संस्कृति के रंगों से गुलजार होगा। मालिनी अवस्थी 20 सितंबर को शाम साढ़े सात बजे इस पर्व के शुभारंभ पर प्रस्तुति देंगी।
सी.वी. रमन विश्वविद्यालय के कुलसचिव रवि चतुर्वेदी तथा सहायक कुलसचिव लुकमान मसूद ने बताया कि साहित्य, संस्कृति और कलाओं के प्रति सकारात्मक रूझान जगाने के उद्देश्य से एक व्यापक अभियान शहरों से सुदूर ग्रामीण इलाकों तक चलाया। 7 सितंबर से ‘किताबें करती हैं बातें’ के नाम से शुरू हुआ किताबों का काफिला पूरे निमाड़ क्षेत्र में यात्रा कर 19 सितंबर को थमा। 21 सितंबर को फिल्म कला निर्देशक और रंगकर्मी जयंत देशमुख के निर्देशन में बहुचर्चित नाटक ‘नटसम्राट’ का मंचन होगा। समापन 22 सितंबर की शाम महशूर सूफ ी बैंड ‘मुर्शिदाबादी प्रोजेक्ट’ की यादगार पेशकश के साथ होगा।

पद्मश्री से सम्मानित, कजरी-ठुमरी खासियत
मालिनी अवस्थी पद्मश्री से सम्मानित लोक गायिका हंै। वे हिन्दी भाषा की बोलियों जैसे अवधी, बुंदेली भाषा और भोजपुरी में गाती है। वह ठुमरी और कजरी में भी प्रस्तुत करती है। उन्हें 2016 में पद्मश्री सम्मानित किया गया।

पति योगी के प्रमुख सचिव
मालिनी अवस्थी के पति 1987 बैच के यूपी कैडर के सीनियर आईएएस अधिकारी अवनीश कुमार अवस्‍थी मुख्‍यमंत्री सीएम योगी आदित्‍यनाथ के प्रमुख सचिव हैं।

लव मैरिज पर दी थी सलाह
मालिनी अवस्थी हाल ही में यूपी में भाजपा नेता की बेटी लवमैरिज मामले में एक ट्वीट के बाद खासी चर्चा में आई थीं। तब उन्होंने कहा था कि कोई किसी से भी प्यार करे शादी वे उसका स्वतंत्र निर्णय है। उसे आजादी है। लेकिन इसे अर्जित करने के लिए अपने जनक को लोक के सामने अपमानित करने की कवायद गलत है! जीवन साथी चुनिए किन्तु पिता को इस तरह सर-ए-आम.....।'