स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बड़ा बयानः मध्यप्रदेश तक नहीं आ पाएगा कर्नाटक का वायरस

Manish Geete

Publish: Jul 18, 2019 17:31 PM | Updated: Jul 18, 2019 17:44 PM

Khandwa

कर्नाटक ( karnataka ) और गोवा ( goa ) में चल रहे राजनीतिक संकट के बाद मध्यप्रदेश ( madhya pradesh ) में भी कमलनाथ सरकार ( kamal nath govt ) पर खतरा माना जा रहा है।


खंडवा। कर्नाटक ( karnataka ) और गोवा ( goa ) में चल रहे राजनीतिक संकट के बाद मध्यप्रदेश ( madhya pradesh ) में भी कमलनाथ सरकार ( Kamal Nath govt ) पर खतरा माना जा रहा है। इस बीच, कमलनाथ सरकार के मंत्री तुलसी सिलावट और समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायक ने कहा है कि कर्नाटक का वायरस मध्यप्रदेश तक नहीं आ पाएगा। सभी समर्थक दल कमलनाथ सरकार के साथ खड़े हुए हैं और 5 सालों तक सरकार चलाएंगे।

 

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के पूर्ण बहुमत का तालमेल बैठाने की जिम्मेदारी लेने वाले प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट गुरुपूर्णिमा के मौके पर बुरहानपुर विधायक सुरेंद्र सिंह उर्फ शेरा को साथ लेकर मंदिर-मंदिर पहुंचे। तुलसी सिलावट ने शेरा के साथ पहले ओंकारेश्वर और फिर दादाजी मंदिर में दर्शन किए। यहां मंत्री और विधायक ने ताल ठोकते हुए कहा कि कर्नाटक का वायरल मध्यप्रदेश तक नहीं पहुंचेगा। यहां पूरे 121 विधायक सरकार के साथ पांच साल तक खड़े रहेंगे।

 

ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर और खंडवा के दादाजी धाम मंदिर में 5 साल तक सरकार चलने की अर्जी लगाने के बाद मंत्री तुलसी सिलावट और विधायक सुरेंद्र सिंह उर्फ शेरा ठाकुर ने दावे के साथ कहा है कि उनकी सरकार 5 साल पूरे करेगी। दक्षिण भारत और गोवा में कांग्रेस के विधायकों के इस्तीफे और राजनीतिक घटनाक्रम के सवालों पर मंत्री सिलावट ने कहा कि संकट मोचन शेरा ठाकुर मेरे साथ हैं। बाबा के आशीर्वाद से सरकार पूरे 5 साल चलेगी। निर्दलीय विधायक शेरा ने भी कहा कि अफवाहों पर कोई ध्यान न दें और हम पूरी ताकत के साथ कमलनाथ सरकार के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सरकार को कोई खतरा नहीं है।

 

बता दें कि मध्यप्रदेश की अल्पमत वाली कांग्रेस सरकार को बुरहानपुर के निर्दलीय विधायक शेरा ठाकुर ने भी समर्थन दिया है। शेरा विधानसभा चुनाव के दौरान टिकट नहीं मिलने से नाराज थे और उन्होंने कांग्रेस का दामन छोड़ निर्दलीय चुनाव लड़ा था। बाद में शेरा और बसपा के विधायकों के समर्थन से कमलनाथ सरकार बन पाई थी।

 

 

जांच के सवाल पर प्रभारी मंत्री बोले- इसका नतीजा जल्द सामने होगा
इधर, इमलीपुरा क्षेत्र के शकर तालाब में डूबकर मृत हुए तीन बालकों के घर मंगलवार को जिले के प्रभारी मंत्री तुलसी राम सिलावट पहुंचे। यहां प्रभारी मंत्री सिलावट ने परिजन को ढांढस बंधाया और सरकार की ओर से परिवार की हर संभव आर्थिक मदद करने की बात कही। वहीं, शकर तालाब की खुदाई और तालाब में सुरक्षा के अभाव में गई बच्चों की जान के सवाल पर मंत्री बोले- इसका नतीजा बहुत जल्द सामने होगा। परिवार की मदद की जाएगी। इस दौरान मृतक मोईन कुरैशी के घर प्रभारी मंत्री पहुंचे। जहां जमीन पर बैठकर परिवार से बात की। इसके बाद दो अन्य मृतक बालकों के घर पहुंचे। इसी दौरान क्षेत्रवासियों ने कहा कि तालाब की खुदाई होने के बाद ही हादसा हुआ है, क्योंकि तालाब के आसपास सुरक्षा के इंतजाम नहीं है।