स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

CAA और NRC के विरोध में बिना परमिशन खंडवा में धरना

dharmendra diwan

Publish: Jan 22, 2020 12:01 PM | Updated: Jan 22, 2020 12:01 PM

Khandwa

तख्तियां लेकर आए युवा, शहर के कहारवाड़ी चौक पर शाम 5 बजे शुरू किया धरना, एसडीएम ने कहा- ये मुफीद जगह नहीं, सीएसपी ने कहा- बल प्रयोग करने नहीं, समझाने आए हैं

खंडवा. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रव्यापी नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में मंगलवार से युवाओं ने धरना शुरू कर दिया। शाम 5 बजे कहारवाड़ी चौक पर तख्तियां हाथों में लेकर आए ये युवा बैठ गए। रात साढ़े 10.30 बजे अफसरों की समझाइश के बाद धरना खत्म हुआ। धरना दे रहे युवाओं ने कहा कि यह धरना अब रोजाना शाम 5 बजे से रात 11 बजे तक दिया जाएगा।
मंगलवार को धरना दे रहे युवाओं की सूचना मिलने पर एसडीएम संजीव केशव पांडे, सीएसपी ललित गठरे, कोतवाली टीआई बीएल मंडलोई मौके पर पहुंचे और युवाओं से परमिशन न होने का हवाला देकर हटने के लिए कहा। लेकिन धरने पर बैठे युवा अपनी बात पर अड़े रहे।

[MORE_ADVERTISE1]

कुछ देर बाद एसडीएम ने दोबारा पहुंचकर उन युवाओं से बात की और हटने के लिए कहा। एसडीएम ने कहा- आप लोग यहां धरने पर नहीं बैठ सकते। धरने के लिए परमिशन और स्थान तय करो। परमिशन हम देंगे। एसडीएम ने विरोध प्रदर्शन के लिए नए स्थान का सुझाव मांगा, लेकिन युवाओं ने नया स्थान नहीं बताया।

[MORE_ADVERTISE2]

अचानक धरने पर बैठे
सीएए के विरोध धरने की सूचना एसडीएम कार्यालय में शाम 4 बजे दी है। एक घंटे बाद ही कहारवाड़ी चौक पर एकत्रित होकर स्लोगन लगी तख्तियां लेकर बैठ गए, जिससे एकाएक प्रशासन और पुलिस पहुंची।

[MORE_ADVERTISE3]

सीएए,एनआरसी के विरोध में शांतिपूर्ण कर रहे धरना
युवाओं द्वारा प्रशासन को दिए पत्र में लिखा है कि भारत सरकार द्वारा बनाया सीएए काला कानून है, जो संविधान और उनकी मूल भावना के खिलाफ है। एनआरसी, सीएए के विरोध देशभर में हो रहा है। इंदौर, खरगोन, उज्जैन में शांतिपूर्ण धरना दिया जा रहा। उसी तारतम्य में कहारवाड़ी चौक खंडवा में भी हम लोग शांतिपूर्ण तरह से धरना देने बैठे हैं। अनिश्चितकालीन धरना है। पत्र में युवा अशफाक सिगड़, गुलाम रसूल, मोहम्मद तालिक, मोहम्मद सादिक, वसीम शेख, गयासुद्दीन, मोहम्मद अमजद मोहम्मद आदिल और असलम शेख शामिल हैं।