स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'नटवरलालों" की नटवर लीलाओं के जाल में उलझा खंडवा का 'नर"

Jitendra Tiwari

Publish: Jul 19, 2019 01:18 AM | Updated: Jul 19, 2019 01:18 AM

Khandwa

पांच माह में 100 से ज्यादा लोगों के साथ ठगी, नटवरलालों ने लगाई करोड़ों की चपत,अफसर से लेकर नेता और शिक्षित, आम नागरिक हुए धोखाधड़ी के शिकार

खंडवा. ठगी का पर्यायवाची शब्द है नटवरलाल। इस शब्द से खंडवा का पुराना नाता है। क्योंकि यहां नटवरलालों ने सैकड़ों लोगों को अपने चंगुल में फंसाकर करोड़ों रुपए की चपत लगाई है। चालाक और शातिर इतने की समाज के बीच रहकर भी किसी को कानोकान अपनी नटवर लीलाओं की भनक नहीं लगने दी। ऐसे ही तीन नटवरलालों का खेल पिछले करीब पांच महीनों में उजागर हुआ। जिन्होंने अपनी नटवर लीलाओं का ऐसा जाल बुना कि अधिकारी से लेकर राजनेता और शिक्षित वर्ग के साथ ही आम नागरिक खुद को फंसने से नहीं बचा पाए। जब हाथ से लाखों रुपए जाते नजर आए तो नटवरलालों की करतूतों का भंडाफोड़ हुआ और पुलिस ने प्रकरण दर्ज किए। जिसके बाद दो मामलों के नटवरलाल गिरफ्तार हुए और एक शातिर ठग अब भी फरार है। जिसकी गिरफ्तारी के लिए लोकेशन ट्रेस की जा रही है। शहर में दोगुनी रकम करने का लालच और पूजा-पाठ का झांसा देकर लोगों को ठगी का शिकार बनाने के प्रकरण अक्सर सामने आ रहे हैं। बावजूद इसके लोग सीख नहीं ले रहे और नए नटवर के चंगुल में फंस जाते हैं। नटवरलालों के चंगुल से बचने के लिए लोगों को जागरूक होने के साथ ही रुपयों का लेन-देन करने से पहले संबंधित की जानकारी निकालने की जरूरत है।

ठगी का जरिया बना ज्योतिष व लालच

खंडवा धार्मिक नगरी होने के साथ ही यहां के लोग आस्था में भरोसा रखने वाले हैं। इसी का फायदा उठाकर ठग अपने मंसूबों को कामयाब करने ज्योतिष का सहारा ले रहे हैं। ठीक इसी प्रकार रोजगार की कमी होने के कारण जनता जल्द लालच में पड़ जाती है। कम समय में ज्यादा रुपए कमाने के चक्कर में खून-पसीने की कमाई भी गवां देते हैं। पिछले दिनों शातिर ठग लोगों को कुंडली व हाथ देखकर भविष्य बताने और ज्योतिष के जाल में उलझाकर मोटी रकम लेकर रफूचक्कर हो गया। ठीक इसी तरह हाल ही में सामने आए ठगी के मामले में लालच का झांसा देकर लाखों रुपए ऐंठ लिए गए।

 

ये हैं शहर के तीन नटवर

ज्योतिष के दम पर लगाया लाखों का चूना

खुद को ज्योतिषाचार्य और व्यवसायी बताने वाला नटवरलाल संजय पालीवाल लाखों रुपए की चपत लगाकर करीब पांच माह पहले रफूचक्कर हो गया। पद्मनगर और कोतवाली थाने में धोखाधड़ी के प्रकरण दर्ज हैं। आरोपी संजय दादाजी वार्ड में रहकर लोगों की कुंडली व हाथ देखकर उनका भविष्य देखता और फिर उन्हें जाल में फंसाता था। ज्योतिष के दम पर उसने आम नागरिकों के साथ ही अफसर और नेताओं को भी चपत लगाई। कुछ लोगों को राजनीति में गहरी पेठ होने का झांसा देकर व्यवसाय शुरू कराने की बात कह रुपए ऐंठे। उसके खेल का लोगों को पता चलता इसके पहले ही बोरिया-बिस्तर समेट कर भाग निकला। 20 से अधिक लोगों ने एसपी कार्यालय पहुंचकर शिकायत की थी।

पुलिस की तफ्तीश: धोखाधड़ी के प्रकरण सामने आते ही पुलिस ने आरोपी के निवास पर दबिश दी। जहां ज्योतिष से संबंधित किताबें मिली। फरार होने के बाद से ही पुलिस आरोपी के मोबाइल की लोकेशन ट्रेस करने में लगी है। लेकिन नंबर बंद होने के कारण लोकेशन मिलने में दिक्कत हो रही है।

दोगुना मुनाफे के लालच देकर उलझाया

व्यवसायियों को कम समय में ज्यादा मुनाफा और बेरोजगारों को व्यवसाय के नाम पर करीब डेढ़ करोड़ रुपए का चूना लगाकर नटवरलाल शादाब जिलानी भाग निकला। रुपए नहीं मिले तो ठगी के शिकार हुए लोग कोतवाली थाने पहुंचे और शिकायत दर्ज कराई। शिकायत पर पुलिस ने ठगी के खेल में शामिल मां और भाई को दबोच लिया। इसके बाद नटवरलाल शादाब भी पहुंच गया। आरोपी लोगों को दोगुना मुनाफा देने का लालच देकर रुपए उधार लेता था। पहले छोटी रकम और बाद में ज्यादा मुनाफे का झांसा देकर मोटी रकम मांगता था। जैसे ही लाखों रुपए उसकी जेब में आए वह गायब हो गया। इधर, लोगों को ठगी होने का संदेह हुआ तो थाने पहुंचे। जिसके बाद नटवरलाल का खेल उजागर हुआ।

पुलिस की तफ्तीश: शिकायत पर पुलिस ने आरोपी शादाब और मां नौशादबी और भाई शाकिब को गिरफ्तार किया। मां और भाई को कोर्ट पेश कर जेल भेजा। शादाब को दो दिन की रिमांड पर लिया। पूछताछ में उसने व्यापार में नुकसान होने की बात कही। अन्य मामलों में पूछताछ जारी है। वहीं फरियादियों के रुपयों की जानकारी निकाली जा रही है।

रकम गिरवी व जेवर बनाने का बुना जाल

रकम गिरवी रखने और नए जेवरात बनाने के नाम पर सराफा व्यापारी व उसके नौकर ने ग्राहकों से करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी की। उधार दिए रुपयों के बदले गिरवी रखी रकम गायब कर दी और नए जेवर बनवाने जमा किए रुपयों को हड़प लिया। नटवरलालों की हेराफेरी का शिकार हुए पीडि़तों की फेहरिस्त लंबी है। गिरवी रकम देने में आनाकानी की तो पीडि़त ग्राहक कोतवाली थाने पहुंचे। शिकायत की तो पुलिस ने दोनों को हिरासत में लिया। इसके बाद सराफा व्यापारी के गड़बड़झाले का खुलासा हुआ। 75 से अधिक ग्राहकों ने थाने में नटवरलाल के खिलाफ शिकायत की। आरोपियों ने ग्राहकों की रकम से अपने व्यापार को बढ़ाया और शौक पूरे किए।

पुलिस की तफ्तीश: राम-रहीम ज्वेलर्स के संचालक व कर्मचारी द्वारा ग्राहकों से धोखाधड़ी का मामला सामने आते ही पुलिस ने सराफा व्यापारी व कर्मचारी को पकड़ा। पूछताछ में रकम गिरवी रखना कबूला। कार्रवाई कर दुकान से दस्तावेज, कुछ रकम और आरोपियों की कारें पुलिस ने जब्त की थी। अन्य रकम के संबंध में जांच जारी है।