स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

earthquake - तीन गांवों में डोली धरती, मच गया हड़कंप

deepak deewan

Publish: Sep 19, 2019 12:11 PM | Updated: Sep 19, 2019 12:11 PM

Khandwa

तीन गांवों में डोली धरती

बड़वानी. नर्मदा सोन लिनामेंट की फाल्ट लाइन पर बसा बड़वानी अब भूकंप का केंद्र बनता जा रहा है। पिछले पौने दो माह से लगातार भूगर्भीय हलचल का दौर जारी है। बुधवार को भी तीन गांवों में कुछ मिनट के अंतराल से 10 बार भूगर्भीय हलचल महसूस की गई। बड़वानी में भूगर्भीय हलचल की मॉनीटरिंग की कोई व्यवस्था नहीं है। भूगर्भीय हलचल की मॉनीटरिंग गुजरात के गांधी नगर में हो रही है। यहां सरदार सरोवर बांध के चलते बनाए गए सिस्मोग्राफ सेंटर पर कोई भी जिम्मेदार अधिकारी तैनात नहीं है।
राजपुर तहसील के कई गांवों में भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं। बुधवार को मंदिल गांव में सुबह 9 बजे भूकंप का झटका महसूस किया गया। इसके बाद एक-एक मिनट के अंतराल से यहां चार झटके आए। सेगांवा में भी सुबह 10.20 बजे एक के बाद एक तीन बार भूगर्भीय हलचल महसूस की गई। धार जिले के एकलबारा में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। यहां बुधवार सुबह 9.45 बजे दो बार झटके आए। उल्लेखनीय है कि राजपुर तहसील के भमौरी, साखड़, देवझिरी सहित अन्य गांवों में भी झटके महसूस किए जा रहे हंै।
सिर्फ एक चौकीदार के भरोसे सिस्मो सेंटर
भूकंप के हाईरिस्क झोन में बड़वानी जिला है। इसके बाद भी यहां भूकंप से संबंधी कोई जानकारी किसी को नहीं मिलती है। नर्मदा घाटी में भूकंप अध्ययन के लिए सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड द्वारा सिस्मोग्राफ स्टेशन तो स्थापित हुए हैं, लेकिन इन केंद्रों पर जो उपकरण हैं, वे कबाड़ में तब्दील हो रहे हैं। इन केंद्रों पर उपकरण तो लगे हैं, लेकिन उनकी रीडिंग लेने वाले कोई जिम्ममेदार यहां मौजूद नहीं रहते। शहर के आशा बाल आश्रम के समीप पहाड़ी पर बने सिस्मो सेंटर के कुछ ऐसे ही हाल हैं। यहां सिर्फ एक चौकीदार है जो यहां की देखरेख करता है। यहां के उपकरणों के संबंध में उसे भी कोई जानकारी नहीं। चौकीदार ने बताया कि यहां की रीडिंग गुजरात के गांधी नगर में दर्ज की जाती है।