स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राम विलास वेदांती का बयान-जमीयत के वकील राजीव धवन को मिलती रही पाकिस्तानी आतंक की फंडिंग

Amit Jaiswal

Publish: Dec 03, 2019 11:49 AM | Updated: Dec 03, 2019 11:49 AM

Khandwa

पूर्व सांसद और राम मंदिर न्यास के सदस्य हैं वेदांती महाराज। जमीयत उलेमा-ए-हिंद द्वारा सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करने पर भी की बात।

खंडवा. अयोध्या मामले के संत राम विलास वेदांती महाराज ने जमीयत के वकील राजीव धवन को अयोध्या केस से हटाए जाने पर प्रसन्नता जाहिर की है।

एक दिवसीय दौरे पर खंडवा पहुंचे पूर्व सांसद और संत राम विलास वेदांती ने राजीव धवन को आतंकवाद से जोड़ते हुए कहा कि उनको पाकिस्तानी आतंकवाद से फंडिंग मिलती थी। भाजपा के पूर्व सांसद वेदांती महाराज ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा फैसला सुनाए जाने पर मोदी सरकार की जमकर तारीफ की। बता दें कि अयोध्या मामले पर जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द की ओर से सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल गई है। याचिका एम सिद्दीक की ओर से दाखिल की गई है। इसमें सुप्रीम कोर्ट से 9 नवंबर के फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की गई। खबरें आ रही हैं कि जमीअत ने कोर्ट के फैसले के उन तीन बिंदुओं को फोकस किया है, जिसमें ऐतिहासिक गलतियों का जिक्र है, लेकिन फैसला इनके ठीक उलट आया है। याचिका में कहा गया है कि अव्वल तो ये कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि इस बात के पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं कि मन्दिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई थी।

ट्रस्ट में न हो पदेन व्यक्ति
वेदांती महाराज ने कहा कि सरकार राम मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर जो ट्रस्ट बनाए उसमें सरकारी पदेन व्यक्ति को शामिल न करें। इसमें व्यक्ति को शामिल किया जा सकता है पद को नहीं।

मोदी सरकार की तारीफ
वेदांती महाराज ने कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल में धारा 370 के साथ साथ राम मंदिर पर भी समाधान हो गया। राजीव धवन को अयोध्या फैसले से हटाए जाने पर उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी आंतकियों से उसकी फंडिंग होती थी। जिसके झगड़े के कारण उसको हटाया गया।

कनकपुर मंदिर के समान बने राम मंदिर
राम मंदिर का निर्माण वेदांती महाराज ने राजस्थान के कनकपुर के मन्दिर के समान करने की वकालत भी की क्योंकि अभी विश्व का सबसे बड़ा मंदिर कनकपुर ही है। वेदांती महाराज सोमवार सुबह ही खंडवा पहुंचे। वे यहां अवधूत संत श्री धूनीवाले दादाजी मंदिर पहुंचे और दर्शन किए। उन्होंने कहा कि राम मंदिर की तरह यहां भी कुछ लोग दादाजी मंदिर निर्माण को विवादास्पद रखना चाहते हैं ताकि उनके स्वार्थ पूरे होते रहें। मैं मप्र के मुख्यमंत्री से इस संबंध में चर्चा करूंगा।

[MORE_ADVERTISE1]