स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दस किमी तक बहते रहा 70 साल का बुजुर्ग, फिर भी जिंदा निकला

deepak deewan

Publish: Sep 13, 2019 11:28 AM | Updated: Sep 13, 2019 11:28 AM

Khandwa

दस किमी तक बहते रहा 70 साल का बुजुर्ग

सनावद. कहते है मारने वाला भगवान है तो बचाने वाला भी भगवान ही है। ऐसा ही मामला गुरुवार को देखने को मिला जब नर्मदा में गिरे एक वृद्ध को 10 किमी दूर नाविकों ने सकुशल बचा लिया।

हादसा: पांव फिसलने से नर्मदा में गिर गया 70 साल का बुजुर्ग

स्नान के लिए बांगरदा से आये एक वृद्ध स्नान के बाद नर्मदा दर्शन करने लगे। इसी के दौरान उनके पांव फिसले और वे नर्मदा में गिर गए। बहते हुए 10 किमी दूर आली पहुंच गए जहां नाविकों ने उन्हें पकड़ा।


70 वर्षीय विष्णु सिंह नर्मदा स्नान के लिए ग्राम बांगरदा से मोरटक्का आया। स्नान के बाद वह उफनती नर्मदा में गिर गया। जहां पानी के तेज बहाब में 10 किमी दूर आली तक चला गया। जहां 6 नाविकों ने बुजुर्ग को पानी से बाहर निकाला। सनावद थाने के एसआई एसएस पंवार ने बताया कि बुजुर्ग से पूछताछ में बताया कि नदी देखने के दौरान पांव फिसलने से अचानक गिर गया था। उसे नाविकों ने बचाकर नया जीवन दिया है। अधिक ठंड लगने से ग्रामीणो ने अलाव जलाकर बचाव भी किया।

नाविकों ने अपनी जान की परवाह किए बगैर वृद्ध को बचाने छलांग लगा दी
6 से अधिक नाविकों को कोई बहता हुआ दिखा तो नाविकों ने तेज बहाव में भी अपनी जान की परवाह किए बगैर वृद्ध को बचाने के लिए छलांग लगा दी। नाविकों ने बताया कि पूर्व में भी अलग-अलग घटना बारिश के दौरान हुई। जिसमें कई लोगों को बचाकर जीवनदान दिया था। ये सब मां नर्मदा की कृपा है। जो हमें इस लायक बनाया जिससे हम किसी को जीवनदान दे सके। ग्राम आली के नागरिकों ने बताया कि नाविकों के इस साहसिक प्रयास के लिए उन्हें जीवन रक्षा पदक मिलना चाहिए। जिससे उनका हौसला बढ़ उन्हें प्रोत्साहन मिले।