स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Train robbery : सुरक्षा बल जवानों की मौजूदगी में लुटेरों ने रोक ली ट्रेन, लुटते-लुटते बचे यात्री

Sudhir Shrivas

Publish: Aug 22, 2019 18:52 PM | Updated: Aug 22, 2019 18:52 PM

Katni

चेन लूट के लिए यात्रियों पर मारा झपट्टा

लोगों के विरोध पर भागे लुटेरे

यशवंतपुर-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस की घटना

कटनी। पिछले एक पखवाड़े से ट्रेनों में लूट करने वाला गिरोह एक बार फिर सक्रिय हो गया है। मंगलवार की रात यशवंतपुर-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस में लूट के इरादे से जबलपुर-कटनी सेक्शन में संसारपुर के पास चेन पुलिंग कर टे्रन रोकी। यात्रियों ने विरोध किया तो बदमाश भाग गए। उधर, ट्रेन गार्ड होने के बाद भी बदमाशों को नहीं पकड़ा जा सका। जानकारी के अनुसार 22352 यशवंतपुर-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस जबलपुर से कटनी आ रही थी। रात करीब 11 बजे जैसे ही निवार स्टेशन के पहले संसारपुर स्टेशन के समीप पहुंची तो फुल स्पीड ट्रेन में चेन पुलिंग हो गई। जैसे ही ट्रेन धीमी हुई तो 3-4 कोचों में बदमाश खिडक़ी से महिला यात्रियों पर झपट्टा मारने लगे। अपराधियों के सक्रिय होते ही यात्रियों में हंगामा मच गया।

यात्रियों ने किया विरोध

बताया जा रहा है कि जैसे ही 5-6 बदमाशों ने ट्रेन में यात्रियों के साथ वारदात को अंजाम देने के लिए खिड़कियों से मंगलसूत्र, लॉकेट आदि छीनने का प्रयास किया तो यात्रियों ने हल्ला मचाया। फटाफट ट्रेन की खिड़कियां बंद कीं। यात्रियों ने हो-हल्ला मचाना शुरू किया। हालांकि एस-3 में एक महिला का लेडीज पर्स लेकर एक बदमाश फरार हो गया। बताया जा रहा है कि उसमें एक मोबाइल, नकद सहित अन्य सामग्री रखी हुई थी।

तैनात थे जवान

इस ट्रेन में स्पेशल ट्रेन गार्ड चल रही थी। बताया जा रहा है कि जबलपुर जीआरपी के आरक्षक रहस्य झगेला और जयप्रसाद द्विवेदी यात्रियों की सुरक्षा के लिए तैनात रहे। इनकी जबलपुर से सतना तक की ड्यूटी थी। बदमाशों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोक लिया और लूट का प्रयास किया। एक महिला का पर्स भी लेकर भाग गए लेकिन अपराधियों को गार्ड पकडऩे में असफल रहे।

इनका कहना है- यशवंतपुर-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस में संसारपुर स्टेशन के समीप अज्ञात बदमाशों ने चेन पुलिंग कर लूट का प्रयास किया है। आरोपी एक महिला का पर्स लेकर भाग गए हैं। मामले को जांच में लिया है। -डीपी चड़ार, टीआइ, जीआरपी